Pitru Paksha 2021:19 सितंबर से शुरू होगा पितरों के मोक्ष के लिए कर्मकांड, गया में नहीं लगेगा मेला

Priya Gupta, Last updated: Thu, 16th Sep 2021, 9:31 AM IST
  • पितरों को मोक्ष दिलाने का पखवारा पितृपक्ष 20 सितंबर से शुरू होगा. त्रिपाक्षिक गया श्राद्ध करने वाले 19 सितंबर को पुनपुन या गया शहर में स्थित गोदावरी तालाब से पिंडदान शुरू करेंगे.
19 सितंबर से शुरू होगा पितरों के मोक्ष के लिए कर्मकांड

कोरोना को लेकर लगातार दूसरे साल पितृपक्ष मेले का आयोजन नहीं हो रहा है. पितरों को मोक्ष दिलाने का पखवारा पितृपक्ष 20 सितंबर से शुरू होगा. त्रिपाक्षिक गया श्राद्ध करने वाले 19 सितंबर को पुनपुन या गया शहर में स्थित गोदावरी तालाब से पिंडदान शुरू करेंगे. 20 सितंबर को फल्गू में पूर्णियां श्राद्ध होगा. 17 दिनी पिंडदान से 7 अक्टूबर तक होगा. 7 अक्टूबर को नाना-नानी के पिंडदान के साथ त्रिपाक्षिक श्राद्ध संपन्न हो जाएगा.

इस बार एक तिथि बढ़ जाने से 27 सितंबर को नहीं होगा पिंडदान

आचार्य नवीन चंद्र मिश्र वैदिक ने बताया कि 19 सितंबर से त्रिपाक्षिक श्राद्ध शुरू होगा. 20 सितंबर भाद्रपाद्र पूर्णिमा को फल्गू में स्नान और तर्पण से गया धाम में कर्मकांड शुरू 21 सितंबर आश्विन कृष्ण पक्ष प्रतिपदा का श्राद्ध होगा. आश्विन कृष्ण अमावस्या को अक्षयवट पर सुफल के साथ पितृपक्ष का पिंडदान संपन्न हो जाएगा. लेकिन, 17 दिनों तक गया श्राद्ध करने वाले आश्विन शुक्स पक्ष की प्रतिपदा गायत्री घाट पर नाना-नानी के लिए पिंडदान कर गया श्राद्ध संपन्न करेंगे. आचार्य ने बताया कि इस बार तृतीया तिथि दो दिन 23 और 24 सितंबर को है.

Pitru Paksha 2021: सोमवार 20 सितंबर को पितृपक्ष का पहला श्राद्ध, पूर्वजों का आशीर्वाद पाने के लिए करें ये काम

पूरे आश्विन कृष्णपक्ष 15 की जगह 6 दिनों का है. इस कारण 27 सितंबर को दोपहर में तिथि व्याप्त नहीं होने के कारण इश दिन पिंडदान नहीं होगा. इश दिन का पिंडदान एक दिन पहले या बाद में होगा. 27 को त्रिपाक्षिक वालों को छोड़कर अन्य दिनों वाले पिंडदान कर सकते हैं. 26 सितंबर को षष्टी और सप्तमी व 29 को अष्टमी का पिंडदान होगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें