पटना में रोज होगी लोगों की आरटी-पीसीआर जांच, स्वास्थ्य विभाग ने बढ़ाया लक्ष्य

Smart News Team, Last updated: 07/12/2020 07:53 PM IST
  • राज्य में पटना में ही कोरोना के मामले सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं. दिसंबर में एक बार फिर कोरोना के बढ़ते मामले देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने जांच के लक्ष्य को रोजाना बढ़ाने के निर्देश दिए हैं 
स्वास्थ्य विभाग ने जांच का लक्ष्य रोजाना बढ़ाने के लिए कहा है

पटना. राजधानी में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने आरटी-पीसीआर जांच का लक्ष्य बढ़ा दिया है. एंटीजन रैपिड किट से निगेटिव रिपोर्ट को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने स्वास्थ्य विभाग ने यह निर्णय लिया है. इसके साथ ही कंफर्म निगेटिव रिपोर्ट देने वाली ट्रूनेट विधि से भी जांच का लक्ष्य बढ़ाया गया है. इस संबंधी स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने सिविल सर्जन और लैब को निर्देश जारी किए हैं.

स्वास्थ्य विभाग से निर्देश मिलने के बाद अब रोजाना जिले में 1000 लोगों की आरटी पीसीआर और 250 लोगों की ट्रूनैट विधि से जांच की जाएगी. पीएमसीएच में रोजाना आरटी पीसीआर जांच लक्ष्य 1000 कर दिया गया है. इससे पहले यहां रोज 700 नमूनों की जांच की जा रही थी. गौर हो कि पटना में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. बिहार में सबसे अधिक कोरोना संक्रमित राजधानी पटना से ही मिले हैं. जिसके चलते स्वास्थ्य विभाग की ओर से जिले के तमाम अधिकारियों को अलर्ट किया गया है और जांच का लक्ष्य रोजाना बढ़ाने के निर्देश जारी किए गए हैं ताकि कोराना संक्रमण को फैलने से रोका जा सके.

IIT पटना के छात्र को भारतीय कंपनी ने दिया सालाना 43 लाख का पैकेज

उल्लेखनीय है कि स्वास्थ्य विभाग की ओर से तीन दिन पूर्व ही सभी मेडिकल कॉलेजों और आरएमआरआई, आईजीआईएमएस व एम्स आदि लैब से जांच का लक्ष्य बढ़ाया गया था. अब इसके बाद सिविल सर्जनों को भी हर दिन आरटी-पीसीआर जांच कराने का लक्ष्य दिया गया. सरकार का उद्देश्य हर कोरोना संक्रिमत को ढूंढ़ कर उसे आइसोलेशन में भेज कर संक्रमण की चेन तोड़ने का है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें