Saraswati Puja 2022: सरस्वती पूजा पर 24 घंटे शुभ मुहूर्त, पूरे दिन होगी पूजन

Pallawi Kumari, Last updated: Thu, 3rd Feb 2022, 8:41 AM IST
  • बसंत पंचमी की तिथि को मां सरस्वती की पूजा की जाती है. इस बार शनिवार 5 फरवरी को बसंत पंचमी मनाई जाएगी. मां सरस्वती की पूजा के लिए पूरा दिन मिलेगा. क्योंकि पूरे 24 घंटे पूजा के लिए शुभ मुहूर्त रहेगी.
सरस्वती पूजा (फोटो-लाइव हिन्दुस्तान)

माघ महीने की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को बसंत पंचमी पर मां सरस्वती की पूजा की जाती है. बसंत पंचमी के दिन ही मां सरस्वती का अतरण हुआ. इस बार शनिवार 5 फरवरी 2022 को देशभर में बसंत पंचमी मनाई जाएगी और ज्ञान व बुद्धि पर देवी मां सरस्वती की पूजा की जाएगी. देवी सरस्वती को मां शारदे भी कहा जाता है. देवी सरस्वती मां दुर्गा का दूसरा स्वरूप ब्रह्माचारिणी कही जाती हैं. मां सरस्वती की पूजा अराधना करने से अपार बुद्धि और विद्या की प्राप्ति होती है.

पूजा मुहूर्त-

सरस्वती पूजा के लिए 5 फरवरी सुबह 6 बजकर 43 मिनट से दूसरे दिन यानी 6 फरवरी सुबह 6 बजकर 43 मिनट कर शुभ मुहूर्त रहेगा. यानी पूजा के लिए पूरे दिन का समय भक्तों को मिलेगा. लेकिन ज्योतिषाचार्य पीके युग के अनुसार, देवी सरस्वती की पूजा के लिए 5 फरवरी सुबह 6 बजकर 43 मिनट से 12 बजकर 35 मिनट का समय सबसे उत्तम है.

Basant Panchami 2022: बसंत पंचमी पर भेजें ये बधाई संदेश, खास बन जाएगा सरस्वती पूजा का दिन

सरस्वती पूजा पर बुधादित्य और केदार योग- बसंत पंचमी के दिन मकर राशि में सूर्य और बुध के रहने से इस साल बुधादित्य योग का संयोग भी बन रहा है. साथ ही इस दिन सभी ग्रह चार राशियों में रहेंगे.इसलिए इस दिन केदार जैसा शुभ योग भी बन रहा है.

सरस्वती पूजा का महत्व- मां सरस्वती को मां दुर्गा का दूसरा स्वरूप ब्रह्माचारिणी कहा जाता है. इनकी पूजा करने से व्यक्ति को बुद्धि, विद्या और ज्ञान की प्राप्ति होती है. छात्र-छात्राएं, नौकरी पेशा और कला क्षेत्र से जुड़े लोगों के लिए मां सरस्वती की पूजा का खास महत्व होता है. कहा जाता है कि सबसे पहले भगवान श्रीकृष्ण ने मां सरस्वती की पूजा की थी.

Jaya Ekadashi 2022: कब है माघ शुक्ल जया एकादशी, जानें व्रत, तिथि और पूजा विधि

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें