इन राशियों पर बरसेगी शनि देव की कृपा, साढ़ेसाती और शनि ढैय्या से मिलेगी मुक्ति

Smart News Team, Last updated: Sun, 16th Jan 2022, 6:11 PM IST
  • शनि के राशि परिवर्तन से कई राशियों की किस्मत भी बदलने वाली है. अभी शनि मकर राशि में है 29 अप्रैल को शनि कुंभ राशि में गोचर करेंगे. इससे कई राशियों को शनि की महादशा से मुक्ति मिलेगी.
शनि देव

जल्द ही शनिदेव कुछ राशियों पर मेहबान होने वाले हैं. फिलहाल शनि मकर राशि में गोचर कर रहे हैं और 29 अप्रैल तक इसी राशि में रहेंगे. लेकिन इसके बाद वह कुंभ राशि में गोचर करने लगेंगे. किसी भी ग्रह के राशि परिवर्तन का प्रभाव सभी राशियों पर पड़ता है. शनि के राशि परिवर्तन का भी प्रभाव कई राशियों पर पड़ने वाला है. लेकिन राहत की बात यह है कि कुछ राशियों को इस दौरान फायदा मिलने वाला है. बता दें कि शनि एक साथ 5 राशियों पर प्रभाव डालते हैं, जिनमें तीन राशियों पर शनि साढ़ेसाती और 2 राशि पर शनि ढैय्या होती. शनि साढ़े साती की अवधि साढ़े सात साल और शनि ढैय्या की अवधि ढाई साल की होती है.

इस राशि पर बरसेगी शनि देव की कृपा- जिस राशि की हम बात कर रहे हैं वो है धनु राशि. धनु राशि वाले जातकों पर शनि के राशि परिवर्तन से कृपा बरसने वाली है. 29 अप्रैल को कुंभ राशि में प्रवेश करने के बाद शनि 29 मार्च 2025 तक इसी राशि में रहेंगे. क्योंकि शनि किसी भी राशि पर पूरे ढाई साल तक विराजमान रहते हैं. ऐसे में शनि के राशि परिवर्तन से धनु राशि वाले लोगों को शनि की साढेसाती से मुक्ति मिलेगी. वहीं मिथुन और तुला राशि वाले लोगों को शनि ढैय्या के प्रकोप से मुक्ति मिलेगी.

तिजोरी में भूलकर भी न रखें ये चीजें, पैसों की तंगी से हो जाएंगे परेशान

किन राशि वालों की बढ़ेगी परेशानी- शनि के राशि परिवर्तन से गुरु ग्रह की राशि मीन पर साढे साती की महादशा शुरू हो जाएगी. वहीं कर्क और वृश्चिक राशि वाले शनि ढैय्या की चपेट में आ जाएंगे.

कैसे करें शनि देव को प्रसन्न- शनिवार का दिन शनिदेव के लिए खास होता है. इस दिन पूजा करने से अगर शनि देव प्रसन्न हो जाते हैं तो साढ़े साती का प्रकोप कम होता है. इस दिन पीपलके पेड़ पर जल चढ़ाएं और दीप जलाएं. शनि देव की प्रतिमा के पास सरसों के तेल का दीप जलाएं. ग्रह दोष दूर करने से लिए शनिवार के दिन खिचड़ी का सेवन करें और इस दिन भूलकर भी मांस मदिरा का सेवन न करें.

Purnima: सोमवार को साल 2022 की पहली पूर्णिमा, पूजा और व्रत से दूर होगी दरिद्रता

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें