Pitru Sharadh 2021: सर्व पितृ अमावस्या पर 11 साल बाद बन रहा है खास योग, जानिए क्या है इसका महत्व

Priya Gupta, Last updated: Mon, 4th Oct 2021, 12:48 PM IST
  • इस साल 6 अक्टूबर को सर्व पितृ अमावस्या है. इस दिन किए गए कई उपाय हमारे कष्टों को दूर कर देते हैं. अश्विन मास की इस अमावस्या की खास बात यह है कि इस बार इस दिन एक विशेष योग बन रहा है, जो कि कई सालों में बनता है.
Pitru Sharadh 2021

पटना: श्राद्ध पक्ष का आखिरी दिन तर्पण-श्राद्ध का होता है. इसे विसर्जनी अमावस्या भी कहते हैं. इस साल सर्व पितृ अमावस्या 06 अक्टूबर, बुधवार को है. इस दिन उन सभी पितरों का श्राद्ध किया जाता है. आश्विन मास में पड़ने वाली सर्व पितृ अमावस्या के दिन इस साल विशेष संयोग बन रहा है.अश्विन मास की अमावस्या का हिंदू धर्म में विशेष महत्व होता है. इस साल 6 अक्टूबर को सर्व पितृ अमावस्या है. इस दिन किए गए कई उपाय हमारे कष्टों को दूर कर देते हैं. अश्विन मास की इस अमावस्या की खास बात यह है कि इस बार इस दिन एक विशेष योग बन रहा है, जो कि कई सालों में बनता है.

इस साल पितृ पक्ष 2021 में सर्व पितृ अमावस्या के दिन गजछाया योग बन रहा है. 11 साल बाद ऐसा संयोग देखने को मिल रहा है. ये गजछाया योग काफी शुभ होता है. 6 अक्टूबर के दिन सूर्य और चंद्रमा दोनों की सूर्योदय से लेकर शाम 4 बजकर 34 मिनट तक हस्त नक्षत्र में होंगे. इस स्थिति के कारण गजछाया योग बनता है. धार्मिक ग्रंथों के अनुसार इस योग में श्राद्ध करने से पितृ प्रसन्न होते हैं. इतना ही नहीं, कहते हैं कि इस योग में तर्पण-श्राद्ध करने से कर्ज से मुक्ति मिलती है और घर में सुख-समृद्धि आती है. इस योग में श्राद्ध और दान करने से अगले 12 सालों के लिए पितरों की क्षुधा शांत हो जाती है. इसके बाद ये योग 8 साल 2029 में बनेगा.

Karwa Chauth 2021: करवा चौथ बन रहे हैं ये विशेष योग, जानें पूजा शुभ मुहूर्त

पितृ पक्ष के दौरान गजछाया योग को बेहद शुभ माना गया है. इस दिन गजछाया योग में पितरों के लिए श्राद्ध करें और घी मिली हुई खीर दान करें. कहते हैं कि ऐसा करने से पितृ अगले 12 सालों तक तृप्त हो जाते हैं. इसके अलावा इस समय गरीबों और जरूरमंदों को भोजन कराएं. ब्राह्मण को भोजन कराएं. उन्हें अन्न और कपड़ों का दान देने से आपके सारे संकट दूर हो जाएंगे और घर में धन की कभी कमी नहीं होगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें