भारत में 21 जून को पहला सूर्य ग्रहण, पटना में इस समय शुरू होगा सूतक काल

Smart News Team, Last updated: 18/06/2020 05:00 PM IST
  • भारत में साल 2020 का पहला सूर्य ग्रहण 21 जून को लगने जा रहा है। ग्रहण का सूतक काल 20 जून की रात 09:27 रात से शुरू हो जाएगा। इस दौरान कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है।
जानिए पटना में कब शुरू होगा साल के पहले सूर्य ग्रहण का सूतक काल

पटना. भारत में साल 2020 का पहला सूर्य ग्रहण 21 जून को लगने जा रहा है। ग्रहण के दौरान सूर्य भगवान मिथुन राशि में विराजमान होंगे जिस वजह से इस राशि के लोगों पर ग्रहण का सबसे अधिक असर देखने को मिलता है। पटना के ज्योतिष प्रशांत कुमार के अनुसार सूर्य ग्रहण का विशेष महत्व जिंदगी में होता है। भारत में सूर्यग्रहण सुबह 10 बजकर 34 मिनट के आसपास होगा, इसकी समाप्ति 02 बजकर 05 मिनट पर। दोपहर 12:20 बजे के करीब ग्रहण अपने पूर्ण प्रभाव में होगा।

सूर्य ग्रहण भारत, मध्य अफ्रीकी गणराज्य, कांगो, इथियोपिया, पाकिस्तान और चीन सहित अफ्रीका के कुछ हिस्सों में दिखाई देगा। ग्रहण का सूतक 20 जून की रात 09:27 रात से शुरू हो जाएगा। सूतक काल में कई चीजों का ध्यान रखना भी काफी जरूरी है।

Solar Eclipse 2020: सूर्यग्रहण 21 जून को,जानें किन राशियों पर क्या पड़ेगा प्रभाव

सूतक काल में किन बातों का रखें ध्यान

1. सूतक काल में बालक, वृद्ध एवं रोगी को छोड़कर अन्य किसी को भोजन नहीं करना चाहिए। इस दौरान खाद्य पदार्थो में तुलसी दल या कुशा रखनी चाहिए।

2. गर्भवती महिलाओं को खासतौर सेसावधानी रखनी चाहिए। गर्भवती महिलाओं को अपने शरीर के लंबाई के अनुसार सफेद रंग के धागे को नाप कर ग्रहण काल शुरू होने से पहले उसको सीधा लटका देना चाहिए एवं ग्रहण समाप्त होने के बाद उस धागे को बहते हुए तालाब नदी में प्रवाहित कर देना चाहिए।

3. ग्रहण काल में सोना और भोजन नहीं करना चाहिए। चाकू, छुरी से सब्जी,फल आदि काटना भी निषिद्ध माना गया है।

खास बात है कि इस ग्रहण पर मंगल की दृष्टि होने से एवं 6 ग्रह वक्री(4 ग्रह एवं दो छाया ग्रह) होने से मिथुन, वृष, कर्क, वृश्चिक, धनु और मकर रेखा में पडऩे वाले क्षेत्र व देश में भयंकर भूकम्प, जलप्लावन, सुनामी, अग्नि तांडव एवं महामारी का विशेष प्रकोप होगा। भारत में मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, उत्तराखंड, महाराष्ट्र, गुजरात, काश्मीर, हिमालयी क्षेत्र, बिहार में भूकम्प और जलप्लावन की स्थिति हो सकती है।

भारत में 21 जून को लगेगा पूर्ण सूर्य ग्रहण, जानिए पटना में ग्रहण देखने का समय

ग्रहण का फल

मेष, सिंह, कन्या और मकर राशि वालों पर ग्रहण अशुभ प्रभाव नहीं रहेगा। जबकि वृष, मिथुन, कर्क, तुला, वृश्चिक, धनु, कुंभ और मीन राशि वाले लोगों को सावधान रहना होगा। इसमें वृश्चिक राशि वालों को विशेष ध्यान रखना होगा। यह ग्रहण रविवार को होने से और भी प्रभावी हो गया है। इस सूर्य ग्रहण के दौरान स्नान, दान और मंत्र जाप करना विशेष फलदायी रहेगा। जरुरतमंद लोगों को करें दान और शुभ काम करने से बचें

ग्रहण की इन जरूरी बातों को जान लें

सूतक काल में कोई भी शुभ काम नहीं किया जाता है। ग्रंथों के अनुसारसूतक काल में पूजा पाठ और देवी देवताओं की मूर्तियों को भीछूने की मनाही है। इस दौरान कोई शुभ काम शुरू करना अच्छा नहीं माना जाता।

सूर्य ग्रहण के अशुभ असर से बचने के लिए प्रभावित राशि वाले लोगों को ग्रहण काल के दौरान महामृत्युंजय मंत्र के जप करना चाहिए या सूर्य मंत्र का जाप कर सकते हैं इसके अलावा जरुरतमंद लोगों को अनाज दान करें। ग्रहण से पहले तोड़कर रखा हुआ तुलसी पत्र ग्रहण काल के दौरान खाने से अशुभ असर नहीं होता।

अन्य खबरें