पेयजल किल्लत दूर करने को चलेगा विशेष अभियान, प्रखंड स्तर पर काम को टीमें रवाना

Smart News Team, Last updated: Wed, 3rd Mar 2021, 9:19 PM IST
  • राजधानी पटना में गर्मियों के दौरान कई इलाकों में जल सप्लाई बाधित होने से लोगों को परेशानी होती है. इसी के मद्देनजर प्रशासन की ओर से समय से पहले ही शहर के कई प्रखंडों में सर्वेक्षण करवाकर चापाकल की मरम्मत के लिए टीमों को रवाना कर दिया है ताकि लोगों को पेयजल सप्लाई में बाधा ना आए.
सांकेतिक तस्वीर

पटना. राजधानी पटना में गर्मियों में पेयजल की समस्या को देखते पीएचईडी कार्य प्रमंडल पूर्वी और पश्चिमी की ओर से जिला स्तर पर विशेष अभियान शुरू किया गया है. आम लोगों को पेयजल की व्यवस्था सुनिश्चिचत बनाने के लिए रणनीति तैयार की गई है. डीएम चंद्रशेखर सिंह ने हिंदी भवन परिसर से चापाकल की मरम्मत के लिए ई-रिक्शा व पिकअप वैन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. इनमें दो-दो टीमों को प्रखंड स्तर पर काम करने के लिए भेजा गया है. टीम की ओर से अलग-अलग जोन में जाकर चापाकल की रिपेयर का काम करेगी.

उन्होंने बताया कि इसी के मद्देनजर पहले जिला स्तर पर खराब चापाकल का सर्वेक्षण करवाया गया है. जिसके मुताबिक करीब 800 चापाकल की हालत काफी खराब है और मरम्मत के लिए सामने आए हैं. इन्हीं की रिपेयर के लिए टीमों का गठन किया गया है ताकि गर्मियों चापाकल दुरुस्त कर गर्मियों में पेयजल व्यवस्था को सुचारू रखा जा सके.

पंचायती राज विभाग का निर्देश- घर में टॉयलेट नहीं तो बिहार पंचायत चुनाव लड़ने का अधिकार नहीं

डीएम के मुताबिक हर प्रखंड में पर्यवेक्षक और मिस्त्री की ओर से मरम्मत कारई जाएगी. उनके कार्य का निरीक्षण जूनियर इंजीनियर करेंगे और हर वाहन पर एक पर्यवेक्षक और दो मिस्त्री को टीम के साथ भेजा गया है. हमारी ओर से समय से पहले ही योजना पर काम शुरू कर दिया गया है. व्हाट्सएप ग्रुप बनाकर लोगों से चापाकल में खराबी की शिकायतें मंगाकर समस्या का हल किया जाएगा. गौर हो कि प्रशासन की ओर से यह कार्य इसलिए किया गया है क्योंकि शहर के कई इलाकों में गर्मियों में जल सप्लाई बाधित होने से लोगों को परेशानी होती थी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें