Surya Grahan 2021: 4 दिसंबर को लगेगा साल का आखिरी सूर्य ग्रहण, जानें डेट, टाइम और सूतक का प्रभाव

Pallawi Kumari, Last updated: Tue, 30th Nov 2021, 11:05 AM IST
  • इस साल 2021 का आखिरी सूर्य ग्रहण 4 दिसंबर को लगने जा रहा है. लेकिन ये ग्रहण भारत के किसी भी हिस्से में दिखाई नहीं देगा. इसलिए ना ही इसका धार्मिक महत्व होगा और ना ही ग्रहण में सूतक काल मान्य होगा. इसलिए इस दिन लोग शनैश्चरी अमावस्या होने के कारण स्नान-दान पूजा जैसी गतिविधयां कर सकेंगे. 
 सूर्य ग्रहण का टाइम और सूतक काल का प्रभाव

मार्गशीर्ष अमावस्या को साल 2021 का आखिरी सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है. ये ग्रहण शनिवार 4 दिसंबर को लगेगा. यह ग्रहण नहीं बल्कि ग्रहण उपच्छाया होगा. इसलिए भारत में इसका सूतक काल मान्य नहीं होगा. इसलिए इस दिन शनिवार और नैश्चरी अमावस्या होने के कारण पूजा-पाठ से जुड़ी सारी गतिविधियां की जा सकेगी. इस पर कोई प्रतिबंध नहीं होगा. हालांकि भारत से बाहर ये सूर्य ग्रहणदक्षिण अफ्रीका, नामिबिया, दक्षिण अमेरिका के कुछ दक्षिणी हिस्सों, हिन्द महासागर में कुछ जगह, दक्षिण अटलान्टिक महासागर और ऑस्ट्रेलियाई महाद्वीप के कुछ जगहों पर दिखाई देगा.

सूर्य ग्रहण को लेकर क्या कहते हैं ज्योतिष- आचार्य माधवानंद कहते हैं कि 4 दिसंबर को लगने वाला यह ग्रहण भारत के किसी भी हिस्से में दिखाई नहीं देगा. इसलिए भारत और यहां के लोगों में इस ग्रहण का कोई कुप्रभाव नहीं पड़ने वाला. आचार्य माधवानंद कहते हैं कि मार्गशीर्ष मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या में लगने वाले सूर्य ग्रहण का काफी महत्व होता है. लेकिन चूंकि यह ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा. इसलिए चिंता की कोई बात नहीं है.

Surya Grahan 2021: 4 दिसंबर को लगेगा साल का आखिरी सूर्य ग्रहण, इन राशियों में मचाएगा उथल-पुथल

सूर्य ग्रहण का समय- वैसे तो भारत में यह ग्रहण दिखाई नहीं देगा लेकिन बताया जा रहा है कि पूर्ण सूर्य ग्रहण भारतीय समय के मुताबिक सुबह 10.59 पर शुरू होगा और ग्रहण के मध्य का समय दोपहर 1.04 रहेगा. वहीं दोपहर 03.07 बजे सूर्य ग्रहण खत्म हो जाएगा. ग्रहण की कुल अवधि लगभग 4 घंटे होगी.

सूर्य ग्रहण में सूतक काल- ग्रहण से पहले सूतक काल का काफी महत्व होता है. चंद्र ग्रहण में 9 घंटे पहले और सूर्य ग्रहण में 12 घंटे पहले सूतक लग जाता है जो ग्रहण खत्म होने के बाद ही समाप्त होता है. इस दौरान शुभ कार्य औऱ पूजा पाठ जैसी गतिविधियों पर पूर्णता प्रतिबंध होता है. यहां तक कि मंदिर के कपाट भी बंद कर दिए जाते हैं. लेकिन 4 दिसंबर को लगने वाला सूर्य ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा. इसलिए इसका सूतक काल भी मान्य नहीं होगा.

Surya Grahan 2021: सूर्य ग्रहण से क्या है राहु केतू का संबंध, जानिए पौराणिक कथा

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें