मंगलवार बजरंगबली की पूजा में आज बन रहा सिद्ध योग का विशेष संयोग, बस करें ये काम

Pallawi Kumari, Last updated: Tue, 11th Jan 2022, 8:53 AM IST
  • आज मंगलवार का दिन बजरंगबली की पूजा के लिए खास माना जाता है. मंगलवार का दिन भगवान को प्रिय होता है और वह भक्तों की पूजा से प्रसन्न होते हैं. वहीं आद सिद्ध योग भी बना रहा है. इस योग का काफी शुभ माना जाता है. सिद्ध योग में पूजा करने से सभी कार्य सिद्ध होंगे. 
बजरंगबली पूजा

आज 11 जनवरी 2022 साल का दूसरा मंगलवार है. मलंगवार का दिन बजरंगबली की पूजा के लिए खास माना जाता है क्योंकि ये दिन उन्हें अत्यंत प्रिय है. वैसे तो हर मलंगवार सुबह हनुमान जी की पूजा की जाती है. लेकिन आज विशेष संयोग बन रहा है, जो पूजा के लिए शुभ माना जाता रहा है. आज पौष मास की शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि है. साथ ही आज सुबह 10:53 तक सिद्ध योग बना हुआ है. इस शुभ योग में पूजा करने से किए गए सभी कार्य सिद्ध होते हैं. आज पूजा करते समय अगर आप ये छोटा सा काम करते हैं तो हनुमान जी की विशेष कृपा आपके ऊपर बनी रहती है.

राम-माता सीता की वंदना- हनुमान जी को राम भक्त कहा जाता है. इसलिए जो लोगों भगवान राम और माता सीता की पूजा अराधना करते हैं. उनपर हनुमान जी की सदैव अपनी कृपा बनी रहती है. मंगलवार के दिन पूजा शुरू करने से पहले राम-माता सीता की वंदना करें-

मकर संक्रांति 2022 पर इन 11 चीजों का करें दान, कभी खाली नहीं रहेगी तिजोरी

उद्भवस्थितिसंहारकारिणीं क्लेशहारिणीम्।

सर्वश्रेयस्करीं सीतां नतोअहं रामवल्लभाम्।।

इसके उपरांत भगवान श्रीराम की वंदना करें-

लोकाभिरामं रणरंगधीरं राजीवनेत्रं रघुवंशनाथम्।

कारुण्यरूपं करुणाकरं तं श्रीरामचन्द्रं शरणं प्रपद्ये।।

मंगलवार को करें ये काम- आज मंगलवार के दिन सुबह उठते ही सबसे पहले हनुमान जी का स्मरण करें.पूजा में हनुमान चालीसा जरूर पढ़ें. दिन की शुरुआत की इस चौपाई से करें-

दुर्गम काज जगत के जेते। सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते।।

राम दुआरे तुम रखवारे। होत न आज्ञा बिनु पैसारे।।

आज भूलकर भी न करें ये काम

1. आज के दिन मांस मदिरा का सेवन न करें

2. मंगलवार को नमक नहीं खाना चाहिए.

3. पश्चिम, वायव्य और उत्तर दिशा की यात्रा से बचें. यात्रा अति आवश्य हो तो घर से गुड़ खाकर निकलें.

4. मंगलवार के दिन किसी को कर्ज न दें. कहा जाता है इस दिन कर्ज देने से वो आसानी से नहीं मिलता.

Putrada Ekadashi 2022: इस कहानी के बिना अधूरी है पुत्रदा एकादशी, जानें व्रत कथा

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें