Narendra Giri case: नरेंद्र गिरि को कथित वीडियो से किया जा रहा था ब्लैकमेल, पुलिस जांच में जुटी

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Tue, 21st Sep 2021, 1:26 PM IST
  • नरेंद्र गिरि संदिग्ध मौत मामले में बताया जा रहा है कि उन्हें के वीडियो के जरिए ब्लैकमेल किया जा रहा था. जिससे नरेंद्र गिरि काफी आहत हुए थे. जिसके बारे में नरेंद्र गिरि ने अपने कथित सुसाइड नोट में भी जिक्र किया है.
Narendra Giri case: नरेंद्र गिरि को कथित वीडियो से किया जा रहा था ब्लैकमेल, पुलिस जांच में जुटी (ANI Photo)

प्रयागराज. अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरी संदिग्ध मौत मामले में पुलिस अब एक नए एंगल से जांच करने में जुटी है. पुलिस के अनुसार नरेंद्र गिरि को एक विडीओ के माध्यम से बदनाम रचने की साजिश रची जा रही थी. उस वीडियो के माध्यम से नरेंद्र गिरि को ब्लैकमेल किया जा रहा था. इतना ही नहीं नरेंद्र गिरि के कथित सुसाइड नोट में उस वीडियो के बारे में भी जिक्र किया गया है. उस वीडियो में क्या है, और वह किस चीज को लेकर संबंधित है. जिसको लेकर पुलिस ने अभी तक कुछ साफ नहीं किया है. 

मिली जानकारी के अनुसार उक्त वीडियो नरेंद्र गिरि को अश्लीलता के नाम पर बदनाम करने की साजिश बताया जा रहा हैं. साथ ही कथित सुसाइड नोट में नरेंद्र गिरि ने बताया कि उस वीडियो से उनके सम्मान को ठेस पहुंचाने की कोशिश की गई. जिसके चकते वह आहत है. इसके साथ ही नरेंद्र गिरी की मौत के बाद बाघम्बरी गद्दी पुलिस ने पहुंच सभी से पूछताछ किया. साथ ही शिष्य और महंत का बयान दर्ज करवाया. 

संत समाज का सवाल- हस्ताक्षर नहीं कर पाते थे, सुसाइड नोट कैसे लिखे नरेंद्र गिरी?

पुलिस ने बताया कि पूछताछ में पता चला है कि दो दिन पहले ही आद्या तिवारी से नरेंद्र गिरि की नोकझोंक हुई थी. जिसके बाद ही नरेंद्र गिरी ने सल्फास और रस्सी मंगवाया था. उन्होंने शिष्य से कहा था कि कपड़े सुखाने वाली रस्सी खराब हो गई है, नई रस्सी लेते आओ. जिसके बाद शिष्य ने रस्सी और सल्फास लाकर गुरुजी को दे दिया था.

 साथ ही यह भी पता चला है कि नरेंद्र गिरि के कथित सुसाइड नोट में यह भी लिखा हुआ है कि वह सम्मान से जिए और उन्हीने सम्मान के साथ कभी समझौता नहीं किया. मौत के बाद भी उन्हें वहीं सम्मान मिले. साथ ही उनके कठिन सुसाइड नोट में लिखा हुआ है कि उनकी समाधि स्थल मठ के अंदर ही बनाए जाने का जिक्र किया है.

अन्य खबरें