अक्टूबर के पहले हफ्ते में महंत नरेंद्र गिरी का उत्तराधिकारी चुन सकती है अखाड़ा परिषद

Srishti Kunj, Last updated: Sat, 25th Sep 2021, 10:46 PM IST
  • अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद अगले महीने की शुरुआत में अहम बैठक कर सकता है. इस बैठक में महंत नरेंद्र गिरि के उत्तराधिकारी के चुनें जानें की अटकलें हैं. ये बैठक महंत नरेंद्र गिरी के 16वें दिन के अनुष्ठान से पहले बुलाई जाएगी और इसमें एबीएपी के अगले प्रमुख को चुनने पर चर्चा होने की उम्मीद है.
महंत नरेंद्र गिरी के 16वें दिन के अनुष्ठान से पहले बैठक बुलाई जाएगी.

प्रयागराज. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद, एबीएपी के उत्तराधिकारी को जल्द चुना जा सकता है. प्रमुख महंत नरेंद्र गिरि के निधन के बाद उनके उत्तराधिकारी को लेकर परिषद में विचार चल रहा है. वहीं 5 अक्टूबर को अखाड़ा परिषद महंत नरेंद्र गिरी के 16वें दिन के अनुष्ठान का आयोजन कर रहा है. इसका आयोजन प्रयागराज में उनके बाघंबरी गद्दी मठ में होगा. इस आयोजन से पहले अखाड़ा परिषद की बैठक में उत्तराधिकारी के नाम पर भी चर्चा हो सकती है. देश के 13 मान्यता प्राप्त हिंदू मठों के के सर्वोच्च निर्णय लेने वाले निकाय अखाड़ा परिषद की बैठक में शीर्ष संत अखाड़ा परिषद के अगले प्रमुख को चुनने पर चर्चा करेंगे. कहा गया है कि इस बैठक की तारीख जल्द ही तय की जाएगी.

महंत नरेंद्र गिरि 20 सितंबर, सोमवार को बाघंबरी गद्दी मठ के एक कमरे के अंदर मृत मिले. उनके निधन के बाद एबीएपी प्रमुख का पद खाली है. सीबीआई उनकी मौत मामले में जांच कर रही है. पिछले कई सालों से प्रयागराज में एबीएपी की बैठकें बाघंबरी मठ परिसर में हो रही थीं. हालांकि इस बार ये बैठक मठ में नहीं होगी. संतों का मानना ​​​​है कि षोडशी अनुष्ठान से पहले मठ में ऐसा कोई आयोजन नहीं किया जाना चाहिए. अनुष्ठान से पहले 3 या 5 अक्टूबर को बैठक आयोजित की जाएगी. इस बार बैठक श्री पंचायती अखाड़े के मनहिरवानी आश्रम दारागंज में या श्री पंचायती उदासीन अखाड़ा परिसर किडगंज में आयोजित हो सकती है.

अखाड़ा परिषद के कार्यवाहक अध्यक्ष ने महंत नरेंद्र गिरी के सुसाइड नोट को बताया फर्जी, बोले- नहीं कर सकते आत्महत्या

इस बारे में जानकारी देते हुए एबीएपी के महासचिव और जूना अखाड़े के संरक्षक स्वामी हरि गिरि ने कहा कि महंत नरेंद्र गिरि के षोडशी अनुष्ठान से पहले एबीएपी की बैठक आयोजित करने की योजना है. इस दौरान कई महत्वपूर्ण बिंदुओं पर चर्चा हुई है. महंत नरेंद्र गिरि के असामयिक निधन के बाद, अधिकांश संत चाहते हैं कि एक नया एबीएपी प्रमुख प्राथमिकता से चुना जाए क्योंकि प्रयागराज में कुंभ -2025 की तैयारी कम से कम दो-तीन साल पहले शुरू करनी होंगी.

अन्य खबरें