इलाहाबाद विवि: केंद्रीय मंत्री धर्मेन्‍द्र प्रधान के सामने छात्रसंघ बहाली को लेकर प्रदर्शन, लाठी चार्ज

Shubham Bajpai, Last updated: Mon, 8th Nov 2021, 2:57 PM IST
  • इलाहाबाद विश्वविद्यालय में सोमवार को आयोजित दीक्षांत समारोह में छात्रों ने जमकर हंगामा किया. छात्रसंघ बहाल की मांग करने को लेकर छात्रों ने कार्यक्रम में पहुंचे मुख्य अतिथि केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान का सुरक्षा घेरा तक तोड़ने की कोशिश की. जिसके बाद पुलिस ने छात्रों पर जमकर लाठियां चलाई.
इलाहाबाद विवि: छात्रसंघ बहाली को लेकर बवाल, धर्मेन्‍द्र प्रधान का सुरक्षा घेरा तोड़ने पर लाठीचार्ज

प्रयागराज. इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में सोमवार को आयोजित दीक्षांत समारोह में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे केंद्रीय मंत्री व भाजपा प्रदेश प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान के सामने स्टूडेंट्स ने छात्र संघ की बहाली को लेकर जमकर बवाल किया.

इस दौरान हंगामा इतना उग्र हो गया कि कई उपद्रवी स्टूडेंट्स धर्मेंद्र प्रधान का सुरक्षा घेरा तोड़ने की कोशिश करने लगे. जिसके बाद पुलिस ने उपद्रवी छात्रों पर लाठीचार्ज कर दिया. लाठीचार्ज के बाद स्थिति को पुलिस ने काबू में किया.

Smart City Mission: प्रयागराज, आगरा समेत यूपी के इन शहरों में मिलेगी फ्री वाई-फाई की सुविधा

छात्रों का आरोप संवैधानिक तरीके से विरोध दर्ज करने पर हुआ लाठीचार्ज

लाठीचार्ज के बाद छात्रों ने विश्वविद्यालय प्रशासन पर कई आरोप लगाए. छात्रों का आरोप है कि वो लगातार कई दिनों से छात्रसंघ भवन में अपनी मांगों को लेकर धरना दे रहे हैं. इस दौरान बिना किसी विवाद के वो संवैधानिक तरीके से अपनी बात रख रहे थे. वहीं, जब आज शांतिपूर्ण तरीके से हमने विरोध किया, तो उनपर लाठीचार्ज किया गया. इस दौरान छात्रों ने अपनी मांगों को लेकर 13 बिंदुओं का एक पत्र वीसी के नाम दिया.

अनाथालय के बच्‍चों की पीएम मोदी से आधार कार्ड की मांग, हमें भी पहचानपत्र की जरूरत है

पुलिस का आरोप रोकने के बाद भी नहीं रूके छात्र

इस मामले में पुलिस ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि रोक के बाद भी छात्र जबरन विश्वविद्यालय में घुसने का प्रयास करने लगे. इश दौरान वो बैरिकेडिंग तोड़कर आगे बढ़ने की कोशिश कर रहे थे. इस दौरान छात्र पुलिस से ही धक्का-मुक्की करने लगे. जिसके चलते पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा.

बता दें कि स्टूडेंट्स छात्रसंघ की बहाली को लेकर पिछले डेढ़ साल से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. जिसमें अभी तक किसी भी तरह की कोई भी कार्रवाई नहीं की गई है.

 

अन्य खबरें