इलाहाबाद हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज के खिलाफ मुकदमा चलाने का CBI को मिली मंजूरी

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Fri, 26th Nov 2021, 3:53 PM IST
  • इलाहाबाद हाईकोर्ट से सेवानिवृत्त न्यायाधीश न्यायमूर्ति एस एन शुक्ला के खिलाफ भ्रष्टाचार रोकथाम कानून के तहत मुकदमा चलाने की मंजूरी मिल गई है. इलाहाबाद उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त जज के ऊपर एक निजी मेडिकल कॉलेज के पक्ष में लेने का आरोप है.
इलाहाबाद हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज के खिलाफ मुकदमा चलाने का CBI को मिली मंजूरी, भ्रस्टाचार मामले में है आरोपी (HT FILE PHOTO)

प्रयागराज. सीबीआई को इलाहाबाद उच्च न्यायालय के रिटायर्ड जज एस एन शुक्ला के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले में मुकदमा चलाने की मंजूरी मिल गई है. रिटायर्ड न्यायाधीश न्यायमूर्ति एस एन शुक्ला के खिलाफ एक निजी मेडिकल कॉलेज का पक्ष लेने का आरोप है. जिसको लेकर सीबीआई ने इसी साल अप्रैल में रिटायर्ड न्यायाधीश के खिलाडी भ्रस्टाचार रोकथाम कानून के तहत मुकदमा. चलाने के किए  हाईकोर्ट से अनुमती मांगी थी. जिसपर हाईकोर्ट ने मंजूरी दे दिया है. वहीं हाईकोर्ट से मंजूरी मिलने के बाद सीबीआई आगे की कार्रवाई करने जा रही है. 

भ्रष्टाचार मामले में न्यायमूर्ति शुक्ला के साथ ही छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट से रिटायर्ड न्यायाधीश आईएम कुद्दुसी, प्रसाद शिक्षा न्यास के भगवान प्रसाद और पलाश यादव और भवना पांडेय व सुधीर गिरी को भी मुकदमे में नामजद किया था. सभी के ऊपर भ्रष्टाचार निरोधक कानून के प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया गया था. जिसमें ट्रस्ट द्वारा अरोपी को अवैध तरीके से भुगतान किया गया था. इतना ही नहीं सीबीआई ने इसमें लखनऊ,मेरठ,, दिल्ली समेत कई जगहों पर छापेमारी किया था. 

डेब्यू मैच में श्रेयस अय्यर ने रचा इतिहास, कानपुर के मैदान पर तोड़ा 52 साल का ये रिकॉर्ड

आरोप लगाया गया है कि प्राथमिक में नामजद लोगों ने साजिश रचते हुए अदालत की अनुमति से याचिका वापस ले ली. जिसके बाद 24 अगस्त 2017 को हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ के समक्ष एक और रिट याचिका दायर की गई थी. वहीं प्राथमिक में आगे आरोप लगाया गया है कि याचिका दायर होने के बाद 25 अगस्त 2017 को न्यायमूर्ति शुक्ला की खंडपीठ द्वारा सुनवाई किया गया. जिसमें उसी दिन एक अनुकूल आदेश पारित कर दिया गया.

अन्य खबरें