मिशन 2022: लिखित और मौखिक प्रश्नों के आधार पर जिला प्रवक्ताओं का चयन कर रही कांग्रेस

Haimendra Singh, Last updated: Fri, 10th Dec 2021, 2:38 PM IST
  • जिला प्रवक्ता और मीडिया कोऑर्डिनेटर के चयन प्रकिया के लिए कुछ 18 प्रश्नों का जवाब मांगा जा रहा है जिसमें 14 प्रश्न लिखित हैं और चार प्रश्नों के जवाब मौखिक रूप से देने हैं. इसके पीछे पार्टी का तर्क है कि इन पदों पर क्वालिफाइड लोगों का चयन होना चाहिए.
यूपी के 75 जिलों में जिला प्रवक्ताओं का चयन के लिए लिखित और मौखिक प्रश्नों पूछ रही कांग्रेस. ( सांकेतिक फोटो)

प्रयागराज. मिशन 2022 को देखते हुए उत्तर प्रदेश में सभी राजनीतिक पार्टियां ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी है. चुनाव को देखते हुए कांग्रेस ने भी यूपी के सभी जिलों में जिला प्रवक्ता और मीडिया कोऑर्डिनेटर की चयन प्रकिया शुरू कर दी है. पार्टी ने इन पदों पर नियुक्ति के लिए एक परीक्षा का आयोजन किया है जिसमें लिखित में 14 और मौखिक में 4 प्रश्न पूछे जा रहे है. इन सवालों के जवाब देकर ही आप जिला प्रवक्ता बन सकते है. इसके पीछे पार्टी आलाकमान का साफ कहना है कि हमें इन पदों पर कोई सिफारिश नहीं, बल्कि क्वालिफाइड और शिक्षित लोगों की जरूरत है.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, कुछ दिनों पहले प्रयागराज के कांग्रेस पार्टी कार्यालय पर एक लिखित और मौखिक परीक्षा का आजोयन हुआ था. पार्टी प्रदेश प्रवक्ता अशोक सिंह ने बताया कि कांग्रेस युवाओं को पार्टी में जोड़ने का एक नया अभियान चलाएगी. जिससे ‘बनें यूपी की आवाज’ का नाम दिया गया है. पार्टी का कहना है कि जरुरी नहीं कांग्रेस के जिला मीडिया कोऑर्डिनेटर के पद पर तेनात होने वाले कांग्रेसी हो. इस पद पर कोई भी आवेदन कर सकता है. पार्टी किसी भी पार्टी की विचारधारा से प्रेरित नहीं होना चाहिए.

शिक्षा विभाग को CM योगी की बड़ी राहत, इन कर्मचारियों के आश्रित को मिलेगी मनचाही नियुक्ति

कांग्रेस पूछ रही ऐसे सवाल

जिला मीडिया कोऑर्डिनेटर पद के लिए हुए इस परीक्षा में पूछे गए सवालों के बारे में बताया गया है कि इसमें 14 लिखित पूछे गए, वही 4 प्रश्नों का जवाब मौखिक रुप में देना होगा. मिली जानकारी के अनुसार, परीक्षा में पूछा गया कि ‘बाबा साहेब डॉ. भीमराव आंबेडकर का जन्म कहां हुआ’ ‘आजादी के पहले कांग्रेस में कुल कितनी राष्ट्रीय महिला अध्यक्ष बनीं’ ‘कांग्रेस की तीन बड़ी योजनाएं कौन सी थीं’ आदि सवाल पूछे गए. अब देखना ये होगा कि कांग्रेस का ये तरीका यूपी चुनाव में उनके काम आता है.

अन्य खबरें