Narendra Giri Death: तीन दिन बाद खुला हनुमान मंदिर का पट, शोक में डूबा अखाड़ा

ABHINAV AZAD, Last updated: Fri, 24th Sep 2021, 1:32 PM IST
  • महंत नरेंद्र गिरि की मौत के तीन दिन बाद हनुमान मंदिर का पट खुला. इस दौरान आम दिनों की तरह श्रद्धालु जुटे और नगर देवता को प्रणाम किया. हालांकि इस दौरान मंदिर कार्यालय को नहीं खोला गया.
(फोटो क्रेडिट- सोशल मीडिया)

प्रयागराज. महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर को आखिरी बार बड़े हनुमान मंदिर लाया गया. बुधवार शाम से महंत नरेंद्र गिरि के पार्थिव शरीर को लाने के बाद मंदिर के पट श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए. गुरूवार सुबह भी मंदिर अपने तय समय पर खोला गया. जिसके बाद आम दिनों की तरह श्रद्धालु जुटे और इस दौरान नगर देवता को प्रणाम किया. हालांकि इस दौरान मंदिर कार्यालय लॉक था, दरअसल मंदिर को नहीं खोला गया. उस कक्ष में दिवंगत महंत नरेंद्र गिरि अपने खास लोगों से विचार मंथन करते थे, लेकिन आज फिलहाल उस कक्ष में सन्नाटा पसरा है.

वहीं निरंजनी अखाड़े के बाहर भी लोगों में महंत नरेंद्र गिरि की मौत के तीन दिन बाद भी गजब का भावनात्मक लगाव देखा जा सकता है. दरअसल, इस दौरान निरंजनी अखाड़े के बाहर लोग इस बात पर चर्चा करते नजर आ रहे हैं कि ऐसा नहीं हो सकता है. महंत नरेंद्र गिरि की मौत की मौत नहीं हो सकती है. निरंजनी अखाड़े के बाहर बैठे अजय कुमार और सिद्धेश्वर नामक शख्स कहते हैं कि ऐसा लग रहा है कि मानो महंत नरेंद्र गिरि वापस आएंगे. आसपास के लोग बताते हैं कि महंत नरेंद्र गिरि जब भी बाहर आते थे तो सबसे हालचाल पूछने के बाद ही अंदर जाते थे.

मौत का रहस्य और गहराया, जमीन पर महंत नरेंद्र गिरी का शव लेकिन चलते पंखे का वीडियो सामने आया

गौरतलब है कि सोमवार को महंथ नरेंद्र गिरी मृत पाए गए थे. हालांकि उन्होंने आत्महात्या की या फिर हत्या हुई इस बात पर संशय बरकरार है. अब तक इस राज से पर्दा नहीं उठ पाया है. हालांकि, पुलिस ने इस संबंध में कई गिरफ्तारियां भी की है. मिली जानकारी के मुताबिक, अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की कथित आत्महत्या मामले में पुलिस ने अब तक तीन लोगों को गिरफ्तार किया है.

अन्य खबरें