पैसों की वजह से गई नरेंद्र गिरी की जान? मौत से एक रात पहले मठ पहुंची थी मोटी रकम

Shubham Bajpai, Last updated: Wed, 29th Sep 2021, 2:23 PM IST
  • महंत नरेंद्र गिरी की संदिग्ध मौत मामले में एक बड़ी खबर सामने आ रही है कि महंत गिरी की मौत से एक दिन पहले हरिद्वार से बड़ी रकम बाघंबरी मठ आई थी. अभी रकम के बारे में जानकारी सामने नहीं आ सकी है, लेकिन जांच एजेंसी अब इस केस की जांच मनी कनेक्शन के पहलू से भी कर रही है. 
पैसों की वजह से गई नरेंद्र गिरी की जान? 

प्रयागराज. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी की संदिग्ध मौत के बाद से लगातार इस मामले में नए खुलासे हो रहे हैं. अब इस मामले में यह बात सामने आ रही है कि नरेंद्र गिरी की मौत से एक दिन पहले बाघंबरी मठ में बड़ी रकम आई थी. ये रकम कौन लाया था और कितनी थी इसकी कोई जानकारी नहीं है. अब नरेंद्र गिरी की मौत के मामले में ये रकम तो एक वजह नहीं है इसको ध्यान में रखकर  जांच एजेंसियां इस पहलू पर भी जांच कर रही हैं.

हरिद्वार से लाई गई थी रकम

जानकारी अनुसार, ये पैसा हरिद्वार से बाघंबरी मठ लाया गया था. इसको लेकर एक शख्स नरेंद्र गिरी की मौत से एक दिन पहले ही मठ आया था. इस दौरान उस शख्स ने गेस्ट हाउस कक्ष में महंत नरेंद्र गिरी से मुलाकात भी की थी. अब एजेंसियां मठ में रहने वाले लोगों से उस शख्स के बारे में जानकारी जुटाने का प्रयास कर रही हैं जो उस रकम को लेकर आया था. वहीं, एजेंसियां इसकी भी जानकारी कर रही हैं कि ये रकम किसने दी और किस सोर्स से इसे लिया गया.

 

Narendra Giri Death: जांच के लिए मठ पहुंची CBI ने सेवादारों से की पूछताछ

महंत आनंद गिरी से सीबीआई की पूछताछ जारी

नरेंद्र गिरी मौत मामले में आरोपी आनंद गिरी से सीबीआई लगातार पूछताछ कर रही है. सीबीआई आनंद गिरी से नरेंद्र की मौत की खबर, मठ छोड़ने के बाद नरेंद्र गिरी से बात हुई या नहीं, हरिद्वार आश्रम पर कार्रवाई, नरेंद्र गिरी और आनंद गिरी के बीच मध्यस्थता करवाने वाले लोग, हरिद्वार जाने के बाद की गतिविधियां, महंत नरेंद्र गिरी का कथित वीडियो जैसे कई सवालों को लेकर जवाब सवाल कर रही है. साथ ही लेटे हुए हनुमान मंदिर के मुख्य पुजारी और उनके बेटे से भी सीबीआई इस मामले में पूछताछ कर रही है.

अखाड़ा परिषद अध्यक्ष नरेंद्र गिरी के उत्तराधिकारी बलबीर गिरी बने बाघंबरी मठ के महंत

बता दें कि 20 सितंबर को महंत नरेंद्र गिरी का शव उनके कमरे में पंखे से लटका पाया गया. अल्लापुर स्थित बाघंबरी मठ में उनका शव मिला था. वहीं, जिस कमरे में उनका शव मिला था, उसी कमरे में उनका कथित सुसाइड नोट मिला था, जिसमें उन्होंने आनंद गिरी को अपनी मौत का जिम्मेदार ठहराया था. जिसके बाद यह मामला तूल पकड़ता जा रहा था. जिसको देखते हुए सरकार ने इस मामले की जांच सीबीआई को दे दी.

अन्य खबरें