बंदरों का इलाके में है आतंक तो वन विभाग करेगा मदद, ऐसे करें शिकायत

Indrajeet kumar, Last updated: Thu, 14th Oct 2021, 3:45 PM IST
  • प्रयागराज में लोग इन दिनों बंदर के आतंक से परेशान हैं. लेकिन नगर निगम या वन विभाग के तरफ से शिकायत के लिए फोन हेल्पलाइन की भी व्यवस्था नहीं कि गई है. बुधवार को जब लोगों ने इसकी शिकायत नगर निगम से की तो नगर निगम के अधिकारियों ने कहा कि इसकी लिखित शिकायत वन विभाग को दीजिए.
फाइल फोटो

प्रयागराज. प्रयागराज में अगर आप बंदरों के आतंक से परेशान हैं तो आपको लिखित शिकायत करनी पड़ेगी. दिनों लोग बंदरों के आतंक से परेशान हैं. लेकिन वन विभाग या नगर निगम के तरफ से शिकायत करने के लिए अब तक कोई आधिकारिक फोन नंबर जारी नहीं किया गया है. लोगों को ये भी नहीं पता है कि बंदरों को आवासीय इलाके से निकलवाने के लिए लिखित शिकायत कहां और कैसे करनी है. अगर शहरी सीमा के अंदर बंदर परेशान कर रहे हैं तो नगर निगम भी वन विभाग को चिट्ठी भेजता है.

शहर के टैगोरटाउन में कर्नलगंज इंटर कॉलेज के पास लोग बंदरों के आतंक से परेशान हैं. दहशत के कारण बुधवार को लोग सुबह से शाम तो घरों के अंदर ही बंद रहे. जब इसकी सूचना नगर निगम को दी गई तो नगर निगम ने कहा कि इसकी लिखित शिकायत वन विभाग को दीजिए. प्रयागराज नगर निगम के पशुधन अधिकारी नीरज सिंह ने कहा कि बंदरों को पकड़ने का काम वन विभाग का है. नगर निगम अपने सीमा के अंदर बंदर पकड़ने के लिए वन विभाग को शुल्क चुकाता है. उन्होंने बताया कि सूचना मिलने पर नगर निगम भी वन विभाग को पत्र भेजता है. वही लिखित शिकायत के नियम से टैगोरटाउन के लोग परेशान हैं. उनका मानना है कि शिकायत की व्यवस्था आसान होनी चाहिए. विभाग को इसके लिए फोन हेल्पलाइन जारी करनी चाहिए.

आरआरसी प्रयागराज ने 1164 अपरेंटिस पदों के लिए जारी की अधिसूचना, जानिए पूरी जानकारी

गौरतलब है कि इससे पहले भी बंदरों ने कई बार टैगोरटाउन में उत्पात मचाया है. बुधवार सुबह लगभग 11 बजे बंदरों का झुंड मोहल्ले ने गलियों से गुजरने वाले लोगों पर हमले शुरू कर दिया. जिसके बाद लोगों में काफी डर का माहौल देखा गया. बंदरों को मुहल्ले से भगाने के लिए कुछ लोगों ने पटाखे भी बजाए. पटाखे की आवाज सुनकर बंदर भाग तो गए लेकिन कुछ देर के बाद दुबारा वापस आ गए. दुबारा आने के बाद बंदरों ने बालकनी में रखे गमले भी तोड़ दिए साथ कुछ लोगों खिड़कियों में लगे कांच को भी नुकसान पहुंचाया. इस दौरान बंदरों ने खिड़कियों से झांकते लोगों को काटने की भी कोशिश किया.

 

अन्य खबरें