ट्रैक पूजन के साथ हजारों मोमबत्तियों से जगमगाया मदन मोहन मालवीय स्टेडियम

Sumit Rajak, Last updated: Wed, 3rd Nov 2021, 7:15 AM IST
  • कोरोना काल में दो साल से बंद चल रही खेल गतिविधियां इस बार चालू हुईं तो मदन मोहन मालवीय स्टेडियम के खिलाड़ियों और प्रशिक्षकों ने दीपावली की पूर्व संध्या यानी धनतेरस को संगम नगरी प्रयागराज में एक साथ 11 हजार मोमबत्तियों जलाकर स्टेडियम में पूरे उत्साह के साथ ट्रैक पूजन किया.
मोमबत्तियां जलाकर मदन मोहन मालवीय स्टेडियम में ट्रैक पूजन

प्रयागराज. कोरोना काल में स्टेडियम सूना पड़ा हुआ है.दो साल से कोच की तैनाती न होने से खिलाड़ियों की प्रतिभा कुंद होती जा रही है.कोरोना काल में दो साल से बंद चल रही खेल गतिविधियां इस बार चालू हुईं तो मदन मोहन मालवीय स्टेडियम के खिलाड़ियों और प्रशिक्षकों ने इस बार पूरे उत्साह के साथ ट्रैक पूजन किया. यह अलग बात है कि ट्रैक पूजन पहले छोटी दिवाली के दिन हुआ करता था, लेकिन इस बार धनतेरस के दिन ही किया गया.

दीपावली की पूर्व संध्या यानी धनतेरस को संगम नगरी प्रयागराज में एक साथ 11 हजार मोमबत्तियां जलाकर स्टेडियम में ट्रैक पूजा की गई. एक साथ हजारों मोमबत्तियों की रोशनी से मदन मोहन मालवीय स्टेडियम जगमगा उठा. ऐसा लगा मानो सितारे आसमान से धरती पर उतर आए हैं. खिलाड़ियों वह खेल प्रेमियों ने इस मौके पर स्टेडियम में दीपू वह मोमबत्तियां की रोशनी से हर एक खिलाड़ी की आकृति बनाकर उन्हें अनूठे अंदाज में दर्शाने की कोशिश की.

प्रयागराज: कोरोना काल के बाद दो साल बाद हुआ ट्रैक पूजन, 10 हजार मोमबत्तियां से जगमगाया स्टेडियम, देखें वीडियो

इस बार दीपों के जरिए स्वच्छता का संदेश दिया गया. मंगलवार शाम को हुए ट्रैक पूजन में सभी प्रशिक्षक और खिलाड़ी मौजूद रहे. ग्राउंड में मोमबत्तियां सजाने के लिए सुबह से प्रशिक्षक और खिलाड़ी लगे थे. खिलाड़ियों ने एक साथ हजारों मोमबत्तियां जलाकर आने वाले साल में अपना खेल बेहतर होने और ज्यादा से ज्यादा कामयाबी मिलने की कामना की. इस मौके पर भव्य आतिशबाजी भी की गई. आतिशबाजी की वजह से आसमान सतरंगी रोशनी से भर गया. स्टेडियम में ट्रैक पूजन के दौरान खिलाड़ियों ने लगभग  हजारों मोमबत्ती जलाकर इस तरह सजावट की जैसे तारे जमीं पर उतर आए हों. खास यह कि जो खिलाड़ी जिस खेल से जुड़ा होता है वह अपने क्षेत्र में मोमबत्तियों से सजावट करता है. इस बार भी जब स्टेडियम में एक साथ दस हजार मोमबत्तियां जलीं तो पूरे मैदान का नजारा देखने लायक रहा.

 

अन्य खबरें