CM भूपेश बघेल के पिता नंद कुमार बघेल 2 दिन बाद जमानत पर रायपुर जेल से निकले

ABHINAV AZAD, Last updated: Sat, 11th Sep 2021, 9:53 AM IST
  • सीएम के पिता रायपुर स्थित एक जेल में बंद थे. उनकी गिरफ्तारी के दो दिन बाद उनके वकील ने जमानत के लिए कोर्ट कोर्ट में आवेदन दिया. उनके वकील के आवेदन पर कोर्ट से मंजूरी मिलने के बाद शुक्रवार की शाम को नंद कुमार बघेल जेल से बाहर आए.
CM भूपेश बघेल के पिता नंद कुमार बघेल रायपुर जेल में बंद थे.

रायपुर. छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पिता नंद कुमार बघेल जेल से बाहर आ गए हैं. सीएम के पिता रायपुर स्थित एक जेल में बंद थे. उनकी गिरफ्तारी के दो दिन बाद उनके वकील ने जमानत के लिए कोर्ट कोर्ट में आवेदन दिया. उनके वकील के आवेदन पर कोर्ट से मंजूरी मिलने के बाद शुक्रवार की शाम को नंद कुमार बघेल जेल से बाहर आए. जेल से निकलने के बाद वह सीधे अपने घर के लिए रवाना हो गए.

गौरतलब है कि 7 सितंबर को रायपुर पुलिस ने नंद कुमार बघेल की गिरफ्तारी के बाद लोअर कोर्ट में पेश किया था. जहां उन्होंने जमानत के लिए आवेदन करने से मना कर दिया. जिसके बाद उन्हें 15 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल दाखिल कराया गया था. बताते चलें कि नंद कुमार बघेल के खिलाफ ‘सर्व ब्राह्मण समाज’ ने रायपुर के डीडी नगर थाने में शिकायत दर्ज करवाई थी. इस शिकायत में नंद कुमार बघेल के खिलाफ उत्तर प्रदेश में ब्राह्मणों के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने का आरोप है. इसके पहले रायपुर समेत छत्तीसगढ़ के अलग-अलग शहरों में नदंकुमार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हुआ. जिसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया.

सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहीं विधवा महिलाओं ने की आत्मदाह की कोशिश

रायपुर के एक पुलिस अधिकारी के मुताबिक, लिखित शिकायत करने वाले संगठन का आरोप है कि नंद कुमार बघेल ने ब्राह्मणों को विदेशी बताकर लोगों से उनका बहिष्कार करने की अपील की. नंद कुमार बघेल पर आरोप है कि उन्होंने भगवान राम के बारे में भी कथित तौर पर अपमानजनक टिप्पणी किया. संगठन ने अपनी शिकायत में कहा कि मुख्यमंत्री के पिता की कथित टिप्पणी का वीडियो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध है. बताते चलें कि एक मीडिया से चर्चा में नंद कुमार ने कहा- “अब वोट हमारा-राज तुम्हारा नहीं चलेगा’. हम यह आंदोलन करेंगे. ब्राह्मणों को गंगा से वोल्गा भेजेंगे, क्योंकि वे विदेशी हैं. जिस तरह से अंग्रेज आए और चले गए. उसी तरह से ये ब्राह्मण या तो सुधर जाएं या फिर गंगा से वोल्गा जाने को तैयार रहें.”

अन्य खबरें