श्रीराम से बड़े नहीं गांधी, कालीचरण को जल्द रिहा करें : BJP

Jayesh Jetawat, Last updated: Thu, 27th Jan 2022, 7:20 PM IST
  • छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में धर्म संसद के दौरान महात्मा गांधी के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने वाले संत कालीचरण महाराज को रिहा करने की मांग के साथ बीजेपी धरना प्रदर्शन कर रही है.
संत कालीचरण महाराज (फाइल फोटो)

रायपुर: छत्तीसगढ़ में बीजेपी धर्म संसद में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर अपमानजक टिप्पणी करने वाले संत कालीचरण महाराज के खुलकर समर्थन में आ गई है. बीजेपी संत कालीचरण की रिहाई की मांग कर रही है. रायपुर रेलवे स्टेशन स्थित हनुमान मंदिर में बीजेपी नेता सच्चिदानंद उपासने और कालीचरण के समर्थक धरने पर बैठे हैं. इनका कहना है कि महात्मा गांधी भगवान श्रीराम से बड़े नहीं हो सकते. संविधान में कहीं भी महात्मा गांधी को राष्ट्रपिता का दर्जा देने का जिक्र नहीं है. 

रायपुर में पिछले दिनों धर्म संसद का आयोजन करने वाले नीलकंढ त्रिपाठी के नेतृत्व में धरना प्रदर्शन हो रहा है. उनका कहना है कि संत समाज के लोगों के मुतबाकि कालीचरण महाराज को राजद्रोह के झूठे आरोप में फंसाया गया है. इससे हिंदू धर्म और संत समाज खतरे में है. बीते 25दिनों से बीजेपी नेता और संत समाज के लोग धरने पर बैठे हैं. मगर कालीचरण महाराज को अब तक रिहा नहीं किया गया है.

CM भूपेश बघेल का सरकारी कर्मचारियों को तोहफा, हफ्ते में पांच दिन करेंगे काम, पेंशन भी बढ़ेगी

बीजेपी का कहना है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पिता नंदकुमार बघेल भगवान राम पर टिप्पणी करते हैं. ब्राह्मणों, ठाकुरों और अन्य समाजों को लेकर विवादित बयान देते हैं. मगर उन्हें अब तक गिरफ्तार नहीं किया गया है. बीजेपी कालीचरण महाराज के खिलाफ लगे राजद्रोह के आरोप हटाकर उन्हें जेल से रिहा करने की मांग कर रही है. बीजेपी नेता सच्चिदानंद कहना है कि अगर उन्हें रिहा नहीं किया गया तो प्रदेश भर में आंदोलन होगा.

देश को कट्टर हिंदू राष्ट्र बनाने के संकल्प का वीडियो वायरल, पुलिस ने दर्ज की एफआईआर

बता दें कि रायपुर में 26 दिसंबर को आयोजित हुई धर्म संसद में कालीचरण महाराज ने महात्मा गांधी पर अपमानजनक टिप्पणी की थी. उन्होंने गांधी के हत्यारे नाथूराम गोड़से की तारीफ भी की. इसके बाद उनके खिलाफ रायपुर में केस दर्ज किया गया. उन्हें एमपी के खजुराहो से गिरफ्तार किया गया. फिलहाल वे जेल में बंद हैं. इस मुद्दे पर सत्ताधारी कांग्रेस और बीजेपी आमने-सामने है.

 

 

अन्य खबरें