छत्तीसगढ़ में 13 दिसंबर से शुरू होगा विधानसभा का शीतकालीन सत्र, अधिसूचना जारी

Shubham Bajpai, Last updated: Sat, 13th Nov 2021, 4:51 PM IST
  • छत्तीसगढ़ में विधानसभा के शीतकालीन सत्र को लेकर अधिसूचना जारी कर दी गई है. विधानसभा का सत्र 13 दिसंबर से शुरू होकर 17 दिसंबर तक चलेगा. इस बार ये सत्र हंगामे से भरा हो सकता है. सत्र में भाजपा राज्य में कानून, व्यवस्था, धान खरीदी और झीरम कांड समेत कई मुद्दों पर बघेल सरकार को घेरने की तैयारी कर रही है.
छत्तीसगढ़ में 13 दिसंबर से शुरू होगा विधानसभा का शीतकालीन सत्र, अधिसूचना जारी

रायपुर.छत्तीसगढ़ में विधानसभा के शीतकालीन सत्र को लेकर अधिसूचना जारी कर दी गई है. इस बार शीतकालीन सत्र 13 दिसंबर को शुरू होगा और 17 दिसंबर तक चलेगा. इस सत्र में वित्तीय और शासकीय कार्य किए जाएंगे. इस बार बीजेपी विधानसभा सत्र में धान खरीदी, कानून व्यवस्था और भ्रष्टाचार समेत कई मुद्दों पर बघेल सरकार पर हमलावर हो सकती है.

झीरम कांड पर विधानसभा में हो सकता हंगामा

विधानसभा सत्र की अधिसूचना से पहले ही प्रदेश में झीरम कांड की रिपोर्ट सार्वजनिक करने को लेकर हंगामा मचा हुआ है. बीजेपी लगातार सरकार पर इसकी रिपोर्ट सार्वजनिक करने का दबाव बना रही है. झीरम जांच की रिपोर्ट राजभवन की तरफ से राज्य सरकार को सौंप दी गई है. कयास लगाए जा रहे हैं सरकार इसको विधानसभा सत्र या उससे पहले सार्वजनिक कर सकती है.

छत्तीसगढ़ में मिड डे मील की राशि पहुचेंगी बच्चों के खातों में, कोरोना काल में लिया गया था निर्णय

नेता प्रतिपक्ष ने की सत्र की अवधि बढ़ाने की मांग

विधानसभा सत्र की अधिसूचना जारी होने के बाद विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने विधानसभा सत्र की अवधि बढ़ाने की मांग की. उन्होंने कहा कि ये बहुत छोटा विधानसभा सत्र है. एक दिन श्रद्धांजलि में निकल जाता है. बचे साढ़े तीन दिन में सभी मुद्दों पर चर्चा नहीं की सकती. इस विधानसभा सत्र की अवधि बढ़ानी चाहिए. ताकि सभी विधायकों को अपनी बात विधानसभा पटल में रखने का अवसर मिल सके.

आयकर विभाग की नई सर्विस से अब कमाई छिपाना हुआ मुश्किल, एक क्लिक में मिलेगा ब्योरा

इन मुद्दों पर सदन में बढ़ सकती सियासी गर्मी

इस बार सदन में भाजपा सरकार पर धान खरीदी, झीरम कांड की रिपोर्ट, भ्रष्टाचार, राज्य में कानून व्यवस्था समेत कई मुद्दों को लेकर हमलावर रुख अपना सकती है. इस सत्र में कुल 5 बैठकें होंगी. वहीं, अब सदन की तैयारियों को लेकर भाजपा और कांग्रेस जल्द अपने विधायकों की एक बैठक ले सकती है.

 

अन्य खबरें