छत्तीसगढ़ के लोगों की अजीब मांग! कांकेर जिले से इस जिले में करो शिफ्ट, राज्यपाल से मिले

Prachi Tandon, Last updated: Wed, 27th Oct 2021, 7:20 AM IST
  • छत्तीसगढ़ के लोगों की एक अजीब मांग सामने आई है. जिसमें लोग अपने 58 गांवों को पड़ोस के जिले में शिफ्ट करने की मांग कर रहे हैं. कांकेर जिला में आने वाले 58 गांवों के ग्रामीण छह दिन पदल चलकर गर्वनर से मिलने आए हैं.
कांकेर जिला के 58 गांवों के ग्रामीण छत्तीसगढञ गवर्नर तक पहुंचे.

रायपुर. छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले में रहने वालों की अजीब मांग. कांकोर जिले में नहीं रहना है सरकार से गुजारिश करते हुए कहा कि नारायणपुर जिलें में शामिल किया जाए. रायपुर के कांकेर जिले में आने वाले 58 गांवों के लोग छह दिन का सफर करके राज्यपाल अनुसुइया से मिले. छह दिन पहले अपने गांव से निकले ग्रामीणों का कहना है कि उनका गांव नारायणपुर जिले से करीब 20 किमी दूर पड़ता है. जबकि कांकेर 140किमी पड़ता है. अनुसुइया उइकी ने ग्रामीणों की सभी पेशानी को सुनने का प्रय़ास किया और उसको लेकर राज्यपाल ने ग्रामीणों से बातचीत करके कुछ मामलों को लेकर निर्णय भी लिया है.

छत्तीसगढ़ राज्यपाल अनुसुइया उइकी ने कांकेर जिले के अफसरों पर गाज गिराने यानी कार्रवाई करने के आदेश जारी किए हैं. इसी के साथ राज्य सरकार ने केंद्र सरकार को इन गांवों को नारायणपुर में शामिल करने के लिए पहले ही पत्र से बात की जा रही है. राज्यपाल से मिले ग्रामीणों का कहना है कि कांकेर से पदयात्रा शुरू करने से पहले 58 गांवों के ग्राणीणों ने अपनी मांगों को लेकर 45 दिनों तक रावघाट मंदिर के पास धरना भी दिया था. ग्रामीणों की परेशानी और समस्याएं जानने-पूछने के लिए कोई अफसर भी नहीं आया. कांकेर जिले से आए ग्रामीणों का कहना है था कि सरकार उनकी समस्या नहीं सुन रही है इसलिए वह राज्यपाल से मिलने पहुंचे हैं.

कांग्रेस विधायकों की शिकायत पर न्यूज पोर्टल संचालक-एडिटर अरेस्ट, अवैध वसूली का है आरोप

कांकेर जिला के 58 गांवों के लोग पदयात्रा के दौरान अपने साथ राशन लेकर चल रहे थे. लोगों को जहां जगह मिलती को वहां खाना करके रात्रि के कंभल में घुसकर सो जाते लेकिन वह अपनी मांगों को लेकर रायपुर तक पहुंचे.एक ग्रामीण का कहना है लोग 2007 से कह रहे हैं कि उन्हें नारायणपुर जिले में शामिल किया जाए. ग्रामीण का कहना है आज तक किसी से भी उनकी फरियाद नहीं सुनी. इसलिए मजबूरन उन्हें पैदल यात्रा करके रायपुर तक आना पड़ेंगे. 

अन्य खबरें