Ahoyi Ashtami 2021: छत्तीसगढ़ रायपुर दुर्ग भिलाई बिलासपुर कोरबा, उत्तराखंड देहरादून हरिद्वार अहोई अष्टमी कथा मुहूर्त

Naveen Kumar Mishra, Last updated: Mon, 25th Oct 2021, 1:53 PM IST
  • 28 अक्टूबर यानी गुरूवार को अहोई अष्टमी का पावन व्रत पड़ रहा है. इस दिन महिलाएं अपने संतान की लंबी उम्र और सुख समृद्धि के लिए पूरे विधि विधान के साथ माता अहोई और भगवान शिव की पूजा करते हैं. संतान की चाह में और संतान की लंबी उम्र के लिए अहोई अष्टमी का व्रत किया जाता है. 
संतान की लंबी उम्र के लिए महिलाएं रखती हैं अहोई अष्टमी व्रत

रायपुर। करवा चौथ के तीन दिन बाद अहोई अष्टमी का व्रत मनाया जाता है. इस दिन महिलाएं अपने संतान की लंबी उम्र और सुख समृद्धि के लिए पूरे विधि विधान के साथ माता अहोई और भगवान शिव और पार्वती की पूजा करती हैं. संतान की चाह में और संतान की लंबी उम्र के लिए भी महिलाएं अहोई अष्टमी का व्रत करती हैं. इस बार 28 अक्टूबर यानी गुरूवार को अहोई अष्टमी का पावन व्रत पड़ रहा है. हर साल कार्तिक महिने के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को अहोई अष्टमी का व्रत मनाया जाता है. 

 

अहोई अष्टमी का महत्व

सनातन संस्कृति में दूसरे पर्व- त्योहारों की तरह अहोई अष्टमी का भी बड़ा महत्व है. महिलाएं संतान की लंबी उम्र और सुख समृद्धि के लिए पूरे विधि विधान के साथ माता अहोई और भगवान शिव और पार्वती की पूजा करती हैं. इस दिन महिलाएं निर्जला व्रत रखती हैं. कहने वाले ये भी कहते हैं कि अहोई अष्टमी के दिन व्रत रखने और विधि विधान से अहोई माता की पूजा करने से मां पार्वती अपने पुत्रों की तरह ही व्रती के बच्चों की रक्षा करती हैं.

खुशखबरी! रायपुर से शुरू होंगी 5 नई फ्लाइट्स, लखनऊ समेत इन 6 शहरों का सफर होगा आसान

CM बघेल का आदेश, जल्द पूरी की जाए 1384 पदों पर असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती

अहोई अष्टमी पूजा मुहूर्त

इस साल 28 अक्टूबर यानी बृहस्पतिवार को अहोई अष्टमी का पावन व्रत पड़ रहा है. इस बार पूजा के लिए शुभ मुहूर्त शाम 5 बजकर 39 मिनट से 6 बजकर 56 मिनट तक है. पंडितों से मिली जानकारी के अनुसार इस बार 1 घंटे 17 मिनट ही पूजा के लिए शुभ मुहूर्त है. हालांकि कई लोग इस समय अवधि के बाद भी पूजा करते हैं लेकिन शुभ मुहूर्त में पूजा करना ज्यादा लाभकारी होता है.

Video: पाक से मैच हारने पर उत्तराखंड के श्रीनगर में गुस्साए क्रिकेट प्रेमियों ने TV तोड़ा

 

अन्य खबरें