धनतेरस पर खरीदारी के लिए छत्तीसगढ़ रायपुर दुर्ग भिलाई बिलासपुर कोरबा, उत्तराखंड देहरादून हरिद्वार में शुभ मुहूर्त

Anurag Gupta1, Last updated: Wed, 27th Oct 2021, 2:05 PM IST
  • 2 नवंबर को धनतेरस मनाया जाएगा. इस दिन वस्तुओं की खरीदी करके सुख समृध्दि के लिए लक्ष्मी और कुबेर की पूजा करते हैं. इस दिन खरीदारी करना काफी शुभ होता है. लोग इस दिन नया व्यापार व्यवसाय भी शुरू करते हैं. पंचांग के अनुसार कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को धनतेरस मनाया जाता है.
धनतेरस के दिन आभूषण की खरीदारी करते लोग (फाइल फोटो)

2 नवंबर को सुख समृध्दि के लिए लक्ष्मी पूजा व कुबेर पूजा करके धनतेरस मनाया जाएगा. धनतेरस पांच दिवसीय शुभ कार्यक्रमों में दीवाली से दो दिन पहले मनाया जाता है. इस दिन आभूषणों, भूमि, संपत्ति, वाहन. झाडु और अन्य भौतिक वस्तुओं की खरीदने का महत्व है. इस दिन मां लक्ष्मी और कुबेर की पूजा करके सुख समृध्दि की कामना करते हैं. खरीदी और निवेश के लिए पुष्य नक्षत्र का भी काफी महत्व है. इस बार 28 अक्टूबर को पुष्य नक्षत्र और 2 नवंबर धनतेरस पड़ रहा है. धनतेरस पर कब करें खरीदारी और निवेश जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि.

हिंदू पंचांग के अनुसार कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को धनतेरस मनाया जाता है. इस साल धनतेरस 2 नवंबर 2021, दिन मंगलवार को पड़ रहा है. धनतेरस पर सोना-चांदी के आभूषण, भूमि, संपत्ति, वाहन, भोग विलास की वस्तुएं आदि खरीदना अत्यंत शुभ होता है. लोग इस नक्षत्र में नया व्यापार व्यवसाय भी शुरू करते हैं. इस दिन लोग लक्ष्मी पूजा व कुबेर की पूजा करते है. माना जाता है इस दिन लक्ष्मी पूजा करने से समृध्दि आती है और इस दिन किए कार्य शुभ होते हैं. धनतेरस के दिन धन्वंतरि और मां लक्ष्मी की पूजा करने से जीवन में कभी धन की कमी नहीं रहती है.

अपार सिद्धियां और धन चाहिए तो दिवाली की रात ऐसे करें मां काली की निशा पूजा

पूरे दिन धनतेरस का शुभ मुहूर्त रहेगा. धनतेरस सूर्योदय के बाद से रात तक मनाया जाएगा. कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी तिथि मंगलवार को सूर्योदय त्रिपुष्कर व सिद्ध योग में होगा. जो सुबह 8.35 मिनट तक रहेगा सूर्योदय होने से इसका प्रभाव पूरे दिन बना रहेगा. ऐसे में इस दौरान खरीदारी शुभ होगी.

खरीदारी के लिए शुभ मुहूर्त यहां जानें:

चर लग्न सुबह 8:46 बजे से 10:10 बजे तक

अभिजीत मुहूर्त दोपहर 11:11 बजे से 11:56 बजे तक

अमृत मुहूर्त दोपहर 11:33 बजे से 12:56 बजे तक

शुभ योग दोपहर 2:20 बजे से 3:43 बजे तक

वृष लग्न शाम 6:18 बजे से रात 8:14 बजे तक

धनतेरस का शुभ मुहूर्त:

धन त्रयोदशी पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 5 बजकर 25 मिनट से शाम 6 बजे तक

प्रदोष काल शाम 05:39 से 20:14 बजे तक

वृषभ काल शाम 06:51 से 20:47 तक

धरतेरस की पूजा विधि:

चौकी पर साफ लाल कपड़ा बिछाए. इसके बाद उस पर गंगा जल छिड़ककर भगवान लक्ष्मी, कुबेर व धन्वंतरि की मूर्ति का स्थापना करें. मूर्ति के आगे दीप और धूपबत्ती जलाए. देवी देवताओ को लाल फूल अर्पित करें. धनतेरस के दिन जिस चीज की खरीदारी करी है उसे चौकी पर रखें यदि गाड़ी है तो उसकी चाभी को रख सकते हैं. इसके बाद सभी देवी देवताओं का मंत्र जाप करें और फूल अर्पित करें उसके बाद सभी देवी देवताओं की आरती करें. पूजा के दौरान लक्ष्मी मंत्र का जाप करें और कुछ मीठे का भोग लगाए.

अन्य खबरें