प्रखंड कार्यालय के सरकारी बैंक खाते से 2 फर्जी चेक से निकाले 78 लाख रुपये

Smart News Team, Last updated: Fri, 5th Feb 2021, 5:40 PM IST
  • प्रखंड विकास पदाधिकारी ने थाने में दिये आवेदन में लिखा है कि बैंक गाइडलाइन के अनुसार, मोटी रकम निकासी या ट्रांसफर से पहले निकासी पदाधिकारी या नजीर से सत्यापन कराया जाता है. लेकिन, बैंक ने निकासी से पूर्व चेक क्लियर करने के लिए किसी प्रकार की सूचना प्रखंड कार्यालय को नहीं दिया.
सरकारी बैंक खाते से 2 फर्जी चेक से निकाले 78 लाख रुपये (प्रतीकात्मक तस्वीर)

रांची : प्रखंड विकास पदाधिकारी एनी कुजूर ने थाने में शिकायत दर्ज करायी कि प्रखंड कार्यालय के सरकारी बैंक खाते से 2 फर्जी चेक के माध्यम से 78 लाख रुपये से अधिक की निकासी कर ली गयी है. उन्‍होंने कहा कि उनके सरकारी खाते से फर्जी हस्ताक्षर कर 78,07,000 रुपये निकाली जा चुकी है. एनी के अनुसार कार्यालय का बैंक खाता देना बैंक से जुड़ा था, लेकिन बैंक मर्ज होने के समय देना बैंक ने बैंक ऑफ बड़ौदा के साथ विलय कर लिया है. प्रखंड विकास पदाधिकारी ने थाने में दिये आवेदन में लिखा है कि बैंक गाइडलाइन के अनुसार, मोटी रकम निकासी या ट्रांसफर से पहले निकासी पदाधिकारी या नजीर से सत्यापन कराया जाता है. 

लेकिन, बैंक ने निकासी से पूर्व चेक क्लियर करने के लिए किसी प्रकार की सूचना प्रखंड कार्यालय को नहीं दिया. थाना में दिये गये आवेदन में बताया गया कि 2 चेक के माध्यम से 70 लाख 21 हजार रुपये सुहास काले के नाम से छत्तीसगढ़ के बैंक ऑफ बड़ौदा ब्रांच में ट्रांसफर किया गया, जिसका सत्यापन देना बैंक के पूर्व शाखा प्रबंधक मनीष कुमार सिन्हा ने 29 जनवरी, 2021 को किया था तथा 7 लाख 86 हजार रुपये कौशल यादव के नाम से बैंक ऑफ बड़ौदा, बेगूसराय ब्रांच में दो फरवरी 2021 को ट्रांसफर किया गया. 

झारखंड: हाजी हुसैन अंसारी के बेटे हाफीजुल हसन को CM हेमंत सोरेन ने बनाया मंत्री

जिसका सत्यापन बैंक ऑफ बड़ौदा, रामगढ़ के अधिकारी नूपुर छवि ने किया था. एनी कुजूर ने आगे आरोप लगाते हुए कहा कि जिस चेक से यह राशि निकाली गयी है वह चेक प्रखंड विकास कार्यालय को निर्गत नहीं की गयी थी और बिना निर्गत किये हुए चेक द्वारा बैंक के माध्यम से सरकारी राशि की निकासी कर ली गयी है.

अन्य खबरें