उत्पाद विभाग की कस्टडी में आरोपी की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में मौत, लापरवाही का आरोप

Smart News Team, Last updated: Sat, 21st Aug 2021, 8:41 AM IST
राजधानी रांची में उत्पाद विभाग की कस्टडी में अवैध शराब कारोबार के आरोपी की अचानक तबियत बिगड़ गई. जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहा उसकी मौत हो गई. मृतक धनेश्वर महतो के परिजनों ने अधिकारीयों पर लापरवाही का आरोप लगया है.
रांची में शराब कारोबार के आरोपी को घसीटकर ले जाती उत्पाद विभाग की टीम.

रांची. राजधानी रांची में अवैध शराब कारोबारी की उत्पाद विभाग की कस्टडी में अचानक तबियत बिगड़ गई. तबियत बिगड़ने पर आरोपी धनेश्वर महतो इलाज के लिए बूटी रोड स्थित मेडिका अस्पताल में भर्ती कराया था. अस्पताल में उपचार के दौरान आरोपी धनेश्वर की मौत हो गई. धनेश्वर महतो के परिजनों ने अधिकारीयों पर तबियत बिगड़ने के बाद समय से अस्पताल में भर्ती न कराने का आरोप लगाया है. परिजनों ने मृतक धनेश्वर को झूठे मामले में फंसाने का आरोप भी उत्पाद विभाग पर लगाया है. इस पूरे मामले पर विभाग के अधिकारीअपनी जवाबदेही से बचते नजर आ रहे हैं. सभी अधिकारी मामले में चुप्पी साधे हुए हैं. 

सुखदेव नगर थाना क्षेत्र के रातू रोड के रहने वाले धनेश्वर महतो को उत्पाद विभाग के दस्ते ने मधुकम स्थित आवास पर टीम के साथ छापेमारी कर हिरासत में लिया था. उत्पाद विभाग ने धनेश्वर को अवैध शराब के कारोबार के आरोप में पकड़ा था. इसी दौरान परिजनों का आरोप है की धनेश्वर को हृदयघात हुआ था लेकिन अधिकारीयों ने कोई इंसानियत नहीं दिखाई. अधिकारीयों ने धनेश्वर को घसीटते हुए गाड़ी में डाल दिया. और न्यू पुलिस लाइन लेन स्थित कार्यालय ले गई. तबियत ज्यादा बिगड़ने पर हमने लाख मिन्नतें की लेकिन अधिकारीयों का दिल नहीं पसीजा और धनेश्वर को दवाई नहीं खाने दी. 

जज उत्तम आनंद मौत केस: CBI खाली हाथ, HC ने झारखंड गृह सचिव और FSL निदेशक को किया तलब

धनेश्वर की हालत ज्यादा खराब होंने के बाद लगभग डेढ़ घंटे बाद उसे पहले रिम्स अस्पताल ले गए जहां बेड खाली नहीं थे. जिस कारण उसे मेडिका अस्पताल में भर्ती कराया गया. अस्पताल में उपचार के दौरान धनेश्वर की मृत्यु हो गई. परिजनों का आरोप है की धनेश्वर पहले अवैध शराब का धंदा करता था लेकिन अब काफी समय से वो अवैध शराब के कारोबार में संलिप्त नहीं था. लेकिन उत्पाद विभाग के अधिकारी उसे परेशान कर रहे थे. परिजनों ने मामले की उच्च स्तरीय जांच की मांग की है. 

 

अन्य खबरें