रांची: गैंगस्टर अमन को फरार करने में शामिल दरोगा बर्खास्त, CID दाखिल करेगी चार्ज

Smart News Team, Last updated: 20/11/2020 10:58 AM IST
  • सीआईडी की जांच में दरोगा मुकेश कुमार को गैंगस्टर अमन साव को दोषी पाया गया है. जांच में पता चला है कि दरोगा मुकेश कुमार ने अमन साव को थाने के बजाए अतिथि गृह में शरण दी थी. थानेदार ने फरारी पर एफआईआर दर्ज कराते हुए कहा था कि अमन को थाने में हाजत पर रखा गया था और वो बाथरुम के बहाने बाहर गया जिसके बाद से फरार हो गया.
सीआईडी जांच में दरोगा को गैंगस्टर अमन साव को फरार करने का दोषी पाया गया है. (फाइल फोटो)

रांची. गैंगस्टर को भगाने में मामले में सीआईडी अब दरोगा पर चार्जशीट दर्ज करेंगी. सीआईडी की जांच में दरोगा मुकेश कुमार को गैंगस्टर अमन साव को फरार करने का दोषी पाया गया है. जांच में पता चला है कि दरोगा मुकेश कुमार ने अमन साव को थाने के बजाए अतिथि गृह में शरण दी थी. थानेदार ने अमन की फरारी के बाद एफआईआर दर्ज कराते हुए कहा था कि अमन को थाने में हाजत पर रखा गया था और वो बाथरुम के बहाने बाहर गया जिसके बाद से फरार हो गया.

जांच के बाद सीआईडी में मुकेश कुमार पर चार्जशीट दर्ज करने के लिए डीआईजी हजारीबाग से अभियोजन अनुमति मांगी है. अनुमति मिलने के बाद उनके खिलाफ चार्जशीट दर्ज की जाएगी. मुकेश पर धारा 120 बी, 193 और 201 तहत चार्जशीट की जाएगी. उस पर सबूत नष्ट करने, गलत सबूत प्लांट करने और अपराधिक साजिश रचने के दोष लगे हैं. साथ ही हजारीबाग की अनुशंसा पर मुकेश कुमार को बर्खास्तगी कर दी गई है. 

हेल्थ एक्सपर्ट की वॉर्निंग- कोरोना से बचना है तो नदी, तालाब में नहीं लगाएं डुबकी

मामले की जांच करने पर पता चला है कि अमन को दरोगा ने थाने में हजात में रखने की बजाए अतिथि गृह में रखा था. चौकीदार से पूछताछ करने पर पता चला कि दरोगा ने अमन को अपना भाई बता कर अतिथि गृह में रखा था जिसके बाद से वो फरार हो गया था. जानकारी मिली है कि मामला 27 सितंबर 2019 का बताया जा रहा है जिसकी जांच सीआडी कर रही थी.

अन्य खबरें