झारखंड में टीचर्स की निकलने वाली है बंपर भर्तियां, जनजातीय भाषाओं को तरजीह

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Wed, 22nd Sep 2021, 12:09 PM IST
  • मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन सरकार झारखंड में स्कूल स्तर पर जनजातीय और क्षेत्रीय भाषाओं की शिक्षा देने की योजना बना रही है. जिसे पढ़ाने के लिए लिए बड़े स्तर पर शिक्षकों की जरुरत पड़ सकती है. जिसे देखते हुए झारखंड सरकार बड़े पैमाने पर शिक्षकों की भर्ती कर सकती है.
झारखंड में टीचर्स की निकलने वाली है बंपर भर्तियां, जनजातीय भाषाओं को तरजीह

रांची. झारखंड मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जल्द ही शिक्षकों की बंपर भर्ती कर सकते है. दरअसल झारखंड सरकार स्कूल स्तर पर जनजातीय और क्षेत्रीय भाषाओं की शिक्षा शुरू करने की योजना बना रही है. जिसे प्राथमिक से लेकर इंटर तक के छात्रों को पढ़ाया जाएगा. जिसके लिए इन भाषाओं के शिक्षकों की भर्ती हेमंत सोरेन सरकार कर सकती है. इसके अलावा हाल ही में झारखंड सरकार ने राज्य कर्मचारी चयन आयोग की तरफ से ली जाने वाली नियुक्ति परीक्षा में जनजातीय और क्षेत्रीय भाषाओं को शामिल किया गया है. इन भाषाओं के लिए शिक्षकों के पद सृजित किए जाएंगे. 

मिली जानकारी के अनुसार झारखंड सरकार ने भाषाई शिक्षकों की नियुक्ति के लिए योजना तैयार कर लिया है. इसके साथ ही सरकार संबंधित स्कूलों में किस भाषा को बोलने वाले ने छात्र हैं, उसकी गणना करवा रही है. ताकि उस आधार पर संबंधित भाषा के लिए शिक्षक पद उस सृजित किया जा सके. हालांकि अभी झारखंड में इंटर तक के स्कूल में जनजाति और क्षेत्रीय भाषाओं के लिए शिक्षक नहीं है. सीएम हेमंत सोरेन की सरकार स्कूल ही नहीं कल की यूनिवर्सिटी के स्तर पर भी जनजाति और क्षेत्रीय भाषाओं के शिक्षक पद सूचित करने की तैयारी में है.

JPSC: सातवीं संयुक्त सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा आंसर की जारी, यहां देखें पूरी डिटेल्स

आपको बता दें कि रांची विश्वविद्यालय के अधिकांश कॉलेजों में स्नातक स्तर पर क्षेत्र और जनजातीय भाषाओं की पढ़ाई की जाती है. इसके लिए शिक्षकों के पद भी सृजित है, लेकिन यहां पर शिक्षकों की कमी है. जिसके चलते छात्रों को पढ़ाने के लिए कॉन्ट्रैक्ट पर शिक्षकों को रखा जाता है. साथ ही यह भी बता दें कि पोस्ट ग्रेजुएशन में 9 जनजाति एवं क्षेत्रीय भाषा की पढ़ाई होती है. जिस पर केवल दो भाषा में ही स्थाई शिक्षक है.

अन्य खबरें