झारखंड में सोरेन सरकार करेगी कौशल विद्या उद्यमशीलता डिजिटल स्किल यूनिवर्सिटी की स्थापना

Anurag Gupta1, Last updated: Wed, 15th Dec 2021, 7:11 AM IST
  • मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा झारखंड में कौशल विद्या उद्यमशीलता डिजिटल स्किल यूनिवर्सिटी स्थापना होगी. विश्वविद्यालयों में छात्र-छात्राओं को उच्च एवं तकनीकी शिक्षा मिले इसके लिए सरकार प्रतिबद्धता से काम कर रही है. राज्य में रोजगारपरक शिक्षा व्यवस्था विकसित हो इसके लिए लगातार चर्चा हो रही है.
झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन.( फाइल फोटो )

रांची. झारखंड में हेमंत सोरेन (Hemant Soren) सरकार छात्र-छात्राओं को उच्च एवं तकनीकी शिक्षा मिले इसके लिए लगातार काम कर रही है. इसके लिए सोरेन सरकार विद्या उद्यमशीलता डिजिटल स्किल यूनिवर्सिटी की स्थापना करेगी. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि सरकार गठन के बाद से ही राज्य की शिक्षा व्यवस्था में गुणात्मक सुधार लाना प्राथमिकता रही है. जिसके लिए प्रतिबद्ध और लगातार प्रयासरत है.

राज्य में स्थापित विश्वविद्यालयों में छात्र-छात्राओं को उच्च एवं तकनीकी शिक्षा मिले और उनका गुणवत्तापूर्ण कौशल विकास हो इसके लिए राज्य सरकार प्रतिबद्धता से काम कर रही. हेमंत सोरेन ने कहा कि सरकार का लक्ष्य है कि झारखंड के शिक्षित और प्रशिक्षित हर युवा को रोजगार का अवसर मिले. इसी सोच के साथ कार्ययोजना बनाई जा रही है. उक्त बातें मुख्यमंत्री ने मंगलवार को उच्च एवं तकनीकी शिक्षा विभाग की बैठक में कही. हेमंत सोरेन ने कहा कि सरकार हर तरह युवाओं को प्रशिक्षित करने में लगी है. जिससे युवाओं को रोजगार का अच्छा अवसर मिले. युवाओ को प्रशिक्षित करने के लिए सरकार हर प्रयास करेगी.

क्या झारखंड में लगेगा राष्ट्रपति शासन, भाजपा सांसद ने सदन में की ऐसी मांग

रोजगारपरक शिक्षा व्यवस्था विकसित हो:

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि राज्य में रोजगारपरक शिक्षा व्यवस्था विकसित हो इसके लिए विश्वविद्यालयों से लगातार चर्चा की जा रही है. उन्होंने ककहा कि विवि कौशल विकास में जिन विषयों पर युवाओं को प्रशिक्षित करें उसके लिए औद्योगिक तथा व्यवसायिक गतिविधियों के साथ-साथ स्थानीय जरूरतों का भी अध्ययन किया जाए ताकि प्रशिक्षित युवाओं को रोजगार से तत्काल जोड़ा जा सके. बैठक में कौशल विद्या उद्यमशीलता डिजिटल स्किल यूनिवर्सिटी के एजुकेशनल स्ट्रक्चर की विस्तृत जानकारी प्रेजेंटेशन के माध्यम से मुख्यमंत्री के समक्ष रखी गई. औद्योगिक तथा व्यवसायिक अध्ययन कराया जिससे युवाओं को रोजगार से जोड़ा जा सके.

अन्य खबरें