महिला सुरक्षा पर CM हेमंत सोरेन सख्त, निर्भया फंड से बनेंगे हेल्प डेस्क

Smart News Team, Last updated: Thu, 11th Feb 2021, 10:43 AM IST
  • झारखंड में सुरक्षा को बढ़ावा देने के लिए पूरे राज्य के तकरीबन 300 थानों में महिला हेल्प डेस्क बनाने की शुरुआत हो चुकी है. ये पहल केवल झारखंड में ही नही बल्कि भारत के विभिन्न राज्यों में भी शुरू की जा चुकी है
हेमंत सोरेन (फ़ाइल फ़ोटो )

रांची। झारखंड के मुख्य्मंत्री हेमंत सोरेन ने राज्य में बढ़ रहे अपराधों को ध्यान में रखते हुए महिलाओं और छोटी बच्चियों की सुरक्षा को हर हाल में सुनिश्चित और मजबूत करने का आदेश दिया था. मुख्यमंत्री ने यह भी कहा था कि सुरक्षा को बढ़ाने में चाहे कोई भी संसाधन क्यों न लगे, उसमे फंड की बाधा कभी नही आयेगी. मुख्यमंत्री ने झारखंड में महिलाओं की सुरक्षा की दिशा में कदम बढ़ाते हुए निर्भया फंड को सक्रिय करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है.

झारखंड में सुरक्षा को बढ़ावा देने के लिए पूरे राज्य के तकरीबन 300 थानों में महिला हेल्प डेस्क बनाने की शुरुआत हो चुकी है. ये पहल केवल झारखंड में ही नही बल्कि भारत के विभिन्न राज्यों में भी शुरू की जा चुकी है. कई राज्यों में निर्भया फंड की समीक्षा करने पर पता चला की कई वर्षों से राज्य आवंटित राशि का 10 प्रतिशत हिस्सा भी नही कर रहे हैं.

पुलिस ने हाइटेंशन तार चोरी करने वाले गिरोह का किया भंडाफोड़, 4 आरोपी गिरफ्तार

इसी के चलते मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने इसे सक्रिय करने का निर्देश दिया है. राज्य के हर थाने में शुरू होने वाले महिला हेल्प डेस्क को बनाने के लिए एक लाख रुपए तक का खर्च होगा, इसके अनुसार 300 थानों में महिला हेल्प डेस्क बनाने में तकरीबन 3 करोड़ रुपए की लागत आएगी.

रांची में अज्ञात युवकों का शव मिलने से हड़कंप, शिनाख्त में जुटी पुलिस

निर्भया फंड में 300 में महिला हेल्प डेस्क बनाने के लिए थानों को मिलने वाले तीन करोड़ रुपये की निकासी व खर्च के लिए CID के एसपी को पावर दिया गया है. ये पैसा उनकी अनुमती के बिना निकालना संभव नहीं है. रुपयों की निकासी डोरंडा कोषागार से होगी. महिला हेल्प डेस्क के लिए 900 कुर्सियां व 300 मोटरसाइकिलें भी खरीदी जाएंगी. महिला हेल्प डेस्क के पास अपना अलग लैंड लाइन व मोबाइल नंबर होगा, जिसपर कभी भी पीड़िता अपनी शिकायत कर सकेगी.

अन्य खबरें