गुमला IED ब्लास्ट में घायल कोबरा बटालियन का जवान एयरलिफ्ट कर रांची में भर्ती

Smart News Team, Last updated: Tue, 13th Jul 2021, 2:08 PM IST
गुमला में IED ब्लास्ट में कोबरा बटालियन का एक जवान घायल हुआ है. घायल को एयरलिफ्ट कर रांची के मेडिका अस्पताल में भर्ती कराया गया है. घायल जवान की स्थिति गंभीर बताई जा रही है. आईसीयू में रखकर उसका इलाज किया जा रहा है.
एंबुलेंस में घायल जवान का इलाज करते डॉक्टर

रांची. गुमला जिले में नक्सल अभियान के दौरान कोबरा बटालियन का एक जवान घायल हो गया है. जानकारी के अनुसार जिले के कुरुमगढ़ थाना क्षेत्र के मड़वा जंगल में माओवादियों द्वारा लगाए गए आईईडी की चपेट में आने से मंगलवार सुबह एक जवान घायल हो गया. ब्लास्ट में कोबरा बटालियन का खोजी कुत्ता मारा गया है. घायल जवान को एयर लिफ्ट कर रांची लाया गया है. उसके बाद उसे अस्पताल ले जाया गया है.

आपको बता दें कि गुमला में नक्सल अभियान के दौरान आइईडी ब्लास्ट में घायल कोबरा बटालियन का जवान बिश्वजीत कुम्भकार है. घायल जवान कोरबा बटालियन 203 का डॉग हैंडलर बताया जा रहा है. इससे पहले जवान को ले जाने के लिए रांची के खेलगांव स्थित हेलीपैड के पास पुलिस पूरी तैयारी के साथ मौजूद थी. यहां एक एंबुलेंस भी खड़ी थी. घायल जवान के यहां पहुंचने के बाद एंबुलेंस से उसे सीधे अस्‍पताल ले जाया गया. खेलगांव स्थित हेलीपैड से पुलिस और अस्पताल की टीम ने ग्रीन कॉरिडोर बनाकर जवान को मेडिका अस्पताल पहुंचाया.

दो लोगों ने मिलकर एक गांव की 5 नाबालिगों का किया अपहरण, 2 के साथ रांची में रेप

घायल जवान की स्थिति गंभीर बनी हुई है. घायल का मेडिका अस्पताल के आइसीयू में रखकर इलाज किया जा रहा है. अस्पताल के एडवाइजर आनंद श्रीवास्तव ने बताया कि‍ मरीज गंभीर है और उसे मल्टीपल इंज्यूरी हुई है.आनंद श्रीवास्तव ने यह भी बताया कि उसके पूरे शरीर में स्पलिंटर लगा है. चेहरे में भी चोट है. साथ ही शरीर के कुछ हिस्से में फ्रैक्चर है.

संताल में हाथी के रौंदने से 14 मौतों पर केंद्र ने सोरेन सरकार से मांगी रिपोर्ट

दरअसल, कुरुमगढ़ थाना क्षेत्र के मड़वा इलाके में माओवादियों की सक्रियता की सूचना मिलने के बाद गुमला पुलिस और अर्द्घसैनिक बल के जवानों ने इलाके में ऑपरेशन शुरू किया था. इसी दौरान डॉग हैंडलर विश्वजीत कुम्भकार आईईडी की चपेट में आ गया. गौरतलब है कि इस इलाके में एक साल के भीतर माओवादियों ने मड़वा जंगल में कई बार जवानों को अपना निशाना बनाया है. इसी साल 25 फरवरी को भी माओवादियों द्वारा लगाए गए लैंडमाइंस ब्लास्ट में सीआरपीएफ के एक जवान के दोनों पैर उड़ गए थे. एक साल के अंदर इस इलाके में माओवादियों ने 5 बार विस्फोट कर पुलिस और सीआरपीएफ जवानों को नुकसान पहुंचाया है.

अन्य खबरें