तालिबान का समर्थन करते कांग्रेस MLA ने कहा- अमेरिकी सेना करती है बहू-बेटियों की बेइज्जती

Ankul Kaushik, Last updated: Sat, 4th Sep 2021, 2:53 PM IST
  • झारखंड के कांग्रेस विधायक इरफान अंसारी ने तालिबान का समर्थन करते हुए एक बयान दिया है. इरफान अंसारी ने कहा है कि तालिबान अफगानिस्तान से अमेरिकी फोर्स हटाने में सफलता प्राप्त कर चुका है. अमेरिकी सेना अफगानिस्तान में बहू-बेटियों की बेइज्जती करती है.
झारखंड कांग्रेस विधायक इरफान अंसारी ने किया तालिबान का समर्थन, फोटो क्रेडिट (इरफान अंसारी फेसबुक)

रांची. झारखंड के कांग्रेस विधायक इरफान अंसारी अपने बयान को लेकर चर्चा में हैं. कांग्रेस विधायक इरफान अंसारी ने तालिबान का समर्थन करते हुए कहा कि तालिबान और अफगानिस्तान मुद्दा नहीं है. यहां पर अमेरिकी और ब्रिटिश फोर्स का रहना असल मुद्दा है क्योंकि अमेरिकी सेना जहां जाती है वहां पर ही लोगों का शोषण करते हुए बहू-बेटियों की बेइज्जती करती है. इसके साथ ही वह लोगों से मारपीट करती है और लोग इसका काफी विरोध भी करते हैं. तालिबान अफगानिस्तान से अमेरिकी फोर्स हटाने में सफल रहा है और इसलिए अफगानिस्तान के लोग अब काफी खुश हैं. अमेरिका और ब्रिटिश फौज पिछले 20-25 साल से अफगानिस्तान पर राज कर रही थी लेकिन तालिबान द्वारा उन्हें हटाने से मुझे अच्छा लगा है. क्योंकि अगर भारत में ही कोई दूसरे देश की सेना आकर राज करेगी तो कोई इसे बर्दाशत नहीं करेगा.

तालिबान द्वारा अमेरिकी फोर्स हटाने से वहां की जनता को आजादी मिली है. क्योंकि स्वतंत्रता सभी का अधिकार है और हर देश के हर नागरिक को खुली हवा में सांस लेने की आजादी है. वहीं कांग्रेस विधायक इस बयान पर झारखंड कांग्रेस अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने किनारा करते हुए कहा है कि विधायक इरफान अंसारी के इस बयान की मुझे जानकारी नहीं है. हालांकि ये उनके निजी विचार हैं लेकिन इनकी कही बातों पर पार्टी के अंदर चर्चा जरूर होगी.

अफगानिस्तान में तालिबान की ज्यादतियों की मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ऑफ इंडिया ने की निंदा

वहीं कांग्रेस विधायक अंसारी के इस बयान पर भाजपा नेता बिरंची नारायण ने कहा कि कांग्रेस विधायक यह भाषा इसलिए बोल रहे हैं क्योंकि कांग्रेस पार्टी की खुद तालिबानी मानसिकता है. वह एक आतंकवादी संगठन का समर्थन कर रहा है जो महिलाओं और अल्पसंख्यकों के खिलाफ क्रूरता के लिए जाना जाता है. हमारी कई माताएं और बहनें और अन्य लोग डर के कारण अफगानिस्तान से भाग रहे हैं, क्या अंसारी यहां भी ऐसी ही चीजें होते देखना चाहते हैं.

अन्य खबरें