झारखंड: UPA बैठक में नहीं पहुंचे कांग्रेस विधायक, आलमगीर आलम के घर मंत्रणा जारी

Smart News Team, Last updated: Thu, 16th Dec 2021, 10:41 PM IST
  • झारखंड में विधानसभा का शीतकालीन सत्र शुरू होते ही महागठबंधन सरकार में नाराजगी शुरू हो गई है. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन द्वारा बुलाई गई यूपीए की बैठक में कांग्रेस का कोई भी विधायक शामिल नहीं हुआ. आलमगीर आलम के घर कांग्रेस विधायक दल की बैठक में मंत्रणा की जा रही है. 
झारखंड कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम के घर पहुंचे सभी MLA

रांची: झारखंड में विधानसभा का शीतकालीन सत्र शुरू होते ही सरकार के अंदर शीत युद्ध शुरू हो गया है. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन द्वारा बुलाई गई यूपीए की बैठक में कांग्रेस के विधायक शामिल नहीं हुए. बताया जा रहा है कि कांग्रेस विधायक जेपीएससी विवाद समेत अन्य मुद्दों को लेकर अपनी ही महागठबंधन सरकार से नाराज हैं. गुरुवार रात कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम के घर सभी MLA इकट्ठा हुए. यहां आगे की रणनीति पर मंत्रणा की जा रही है.

जानकारी के मुताबिक कांग्रेस विधायक दल ने गुरुवार को यूपीए की बैठक से दूरी बनाई. इस वजह से राजनीतिक महकमे में चर्चा शुरू हो गई कि महागठबंधन में फूट पड़ गई है. हालांकि शिक्षा मंत्री जगन्नता महतो ने सफाई में कहा कि आज की बैठक यूपीए नहीं बल्कि झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) विधायक दल की थी. एक परिवार में रहने से थोड़ा बहुत विवाद होता है, लेकिन सब ठीक-ठाक है. जेपीएससी विवाद पर महतो ने कहा कि ये अलग से ऑटोनॉमस बॉडी है. इसमें सरकार का कोई हस्तक्षेप नहीं है. फिलहाल जांच चल रही है, दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी.

झारखंड में बच्चों में फैल रहा किडनी का कैंसर , अस्पताल पहुंचे रहे बच्चों में 70 फीसदी ग्रस्त

जेएमएम विधायक सुदिव्य सोनू ने कहा कि जेपीएससी के मामले में बीजेपी अभ्यर्थियों को गुमराह कर रही है. महागठबंधन के अंदर नाराजगी की कोई बात नहीं है. विधानसभा सत्र में रहने को लेकर बात हुई. सरकार मजबूती के साथ है. कांग्रेस के साथ बैठक नहीं होनी थी. ये जेएमएम की बैठक थी.

सोरेन सरकार का बड़ा फैसला, राज्य के पारा शिक्षक अब कहलायेंगे सहायक टीचर

बता दें कि कांग्रेस ने झारखंड विधानसभा सत्र शुरू होने से पहले विधायक दल की बैठक की थी. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस बैठक में प्रदेश के अंदर 27 फीसदी ओबीसी आरक्षण लागू करने समेत अन्य मुद्दों पर जोर दिया. कांग्रेस ने स्थानीय भाषाओं को नियुक्ति नियमावली से हटाने का भी विरोध किया. मगर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की ओर से इन मुद्दों पर कोई पहल नहीं की गई. बताया जा रहा है कि इन्हीं वजहों से कांग्रेस विधायकों ने बैठक में जाने से इनकार कर दिया.

अन्य खबरें