इस नंबर से बिजली बिल बकाए के मैसेज आ रहे तो अलर्ट हो जाएं, नहीं तो...

Smart News Team, Last updated: Thu, 2nd Sep 2021, 8:05 PM IST
  • झारखंड में बिजली उपभोक्ताओं के मोबाइल पर अलग-अलग नंबरों से बिजली बिल बकाया एवं कनेक्शन काटे जाने संबंधी मैसेज भेजे जा रहे हैं. बिजली उपभोक्ताओं को बिजली बिल जमा कराने के लिए फर्जी नंबरों और आईडी से आ रहे मैसेज से ऑनलाइन ठगी की जा रही है. ठग ने पीड़ित के खाते 98 हजार रुपए उड़ाए.
इस नंबर से बिजली बिल बकाए के मैसेज आ रहे तो अलर्ट हो जाएं, नहीं तो... (फाइल फोटो)

रांची. आए दिन देश में ऑनलाइन ठगी के मामले सामने आते रहते हैं. अपराधी हाईटेक तरीके से अब लोगों को चूना लगा रहे हैं. झारखंड में बिजली उपभोक्ताओं को बिजली बिल जमा कराने के लिए फर्जी नंबरों और आईडी से मैसेज भेजे जा रहे हैं. इन मैसेज में उपभोक्ताओं को बकाए बिजली के बिलों समेत कनेक्शन काटे जाने संबंधी सूचना दी जा रही है. मैसेज में बिजली बिल बकाए के मामलों पर संबंधित बिजली कार्यालय और उनसे संपर्क करने को कहा गया है. ऐसा नहीं करने की सूरत पर उपभोक्ताओं को बिजली कनेक्शन काटने की चेतावनी दी जा रही है. जिन फर्जी नंबरों से उपभोक्ताओं को मैसेज भेजे जा रहे हैं उनमें से एक नंबर 9064762938 है. इस नंबर पर फोन करने पर, फोन रिसीव करने वाला खुद को बिजली विभाग का चीफ इंजीनियर बता रहा है. 

गत वर्ष जयपुर में ऑनलाइन बिजली बिल जमा करने वाले उपभोक्ता को साइबर ठगों ने अपना शिकार बनाया था. सरस्वती नगर, गैटोर निवासी नेतराम जब ऑनलाइन ऐप के माध्यम से बिजली बिल का भुगतान कर रहे थे. तभी इस दौरान उनके मोबाइल पर अचानक ट्रांजेक्शन फेल होने का मैसेज आया और उनके खाते से रुपए कट गए. पीड़ित के पास तुरंत किसी अंजान व्यक्ति ने फोन किया और खाते से कटे पैसे वापस करने के लिए मोबाइल पर एक मैसेज भेजा. शातिर ने युवक को पैसे वापस करने का झांसा देकर मोबाइल पर दो बार ओटीपी भेजा. ओटीपी पूछते ही ठग ने पीड़ित के खाते 98 हजार रुपए उड़ा दिए.

जज उत्तम आनंद मौत केस: HC की कड़ी टिप्पणी- लगता है झारखंड सरकार हर संस्थान ध्वस्त करना चाहती है

झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड ने उपभोक्ताओं को आगाह किया है. जेबीवीएनएल के आइटी सेल के जीएम संजय सिंह ने उपभोक्ताओं को इस तरह के मैसेज के चक्कर में न पड़ने की सलाह दी है. उन्होंने कहा कि उपभोक्ता अपना बिजली बिल संबंधित बिजली कार्यालय के काउंटर, एटीपी मशीन या फिर जेबीवीएनएल की वेबसाइट के जरिये ही जमा करें. जेबीवीएनएल फर्जी नंबर व फेक आइडी की जांच कर रहा है. आनेवाले दिनों में किसी भी उपभोक्ता की शिकायत आती है, तो उन नंबर के विरुद्ध साइबर फ्रॉड का केस दर्ज किया जायेगा.

अन्य खबरें