धनबाद भूमि घोटाला: भू-राजस्व संयुक्त सचिव ने दिए आदेश, दोषियों के खिलाफ होगी FIR

Smart News Team, Last updated: 03/12/2020 08:57 AM IST
  • भू-राजस्व विभाग के संयुक्त सचिव अभिषेक श्रीवास्तव ने दोषियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के आदेश दिया है. सभी आरोपियों पर धनबाद जिले के विभिन्न अंचलों सरकारी खाता की जमीन को लापरवाही बरतें हुए बेचने का आरोप है. जबकि सारी जमीन का रिकार्ड अनलाइन रिकार्ड था.
धनबाद में सरकारी जमीन को बेचने में लापरवाही बरतने का मामला सामने आया है

रांची: धनबाद भूमि घोटाला में भू-राजस्व विभाग के संयुक्त सचिव अभिषेक श्रीवास्तव ने सभी आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के आदेश दिया है. संयुक्त सचिव के आदेश में भू-अर्जन घोटाले में गोलकडीह मौजा से संबंधित तत्कालीन जिला भू-अर्जन आधिकारी लाल नायक तथा भारतीय खनिज विद्यापीठ से संबंधित तत्कालीन जिला भू-अर्जन पदाधिकारी लाल मोहन नायक तथा भारतीय खनिज विद्यापीठ से संबंधित आरोपी तत्कालीन जिला भू-अर्जन पदाधिकारी उदयकांत पाठक एवं नारायण विज्ञान प्रभाकर के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए है.

धनबाद में भू-अर्जन आधिकारियों, निरीक्षकों व जिला अवर निबंधकों ने कार्यालय के कर्मचारियों के साथ मिलकर भूमि घोटाले को अंजाम दिया था. कुछ दिनों पहले धनबाद के उपायुक्त ने मामले की जांच कर भू-राजस्व सचिव को इसकी रिपोर्ट भेजी थी. जिसमें दोषियो के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की थी. धनबाद के उपायुक्त ने अपनी प्रारंभिक जांच में पाया था कि निबंधन कार्यालय द्वारा भूमि के निबंधन के लिए दस्तावेजों के मिलान व अंचल कार्यालय द्वारा राजस्व दस्तावेजों का डिजिटाइजेशन झारभूमि के पोर्टल से करने के क्रम में भी लापरवाही बरती गयी थी.

रांची: आरक्षण में बदलाव के लिए समिति बनाएगी सोरेन सरकार

बता दें कि धनबाद जिले के विभिन्न अंचलों में सरकारी खाता की जमीन को लापरवाही बरतें हुए नियमों के ताक पर रखकर बेचा गया. साथ ही रजिस्ट्री में लगातार धांधली की गयी. सारी जमीन का अनलाइन रिकार्ड था. फिर भी हुए गड़बड़ ज्यादा की गयी. एक ही जमीन के दो से तीन डीड बन गए. कुछ में खाता नंबर, प्लॉट नंबर बदल दिये गये. कई स्थानों पर आदिवासी खाते की जमीन को भी रैयती बना कर उसकी रजिस्ट्री करा दी गए. कुछ दिनों पहले भाजपा नेता रमेश कुमार राही ने भू-राजस्व सचिव को पत्र लिख कर धनबाद, गोविंदपुर, बाघमारा, बलियापुर अंचल में इन गड़बड़ियों को लेकर शिकायत की थी. राजस्व सचिव के निर्देश पर डीसी ने इन मामलों की जांच करायी. प्रथम चरण में धनबाद, बलियापुर एवं बाघमारा के कुछ मामलों की जांच हुई. जांच में आरोपों की पुष्टि हुई.

रांची: पारिवारिक विवाद के चलते महिला ने की आत्महत्या, मायके जाने से किया था मना

झारखंड कृषि मंत्री ने स्वास्थ्य मंत्री से की मुलाकात, देवघर मंदिर आने का न्योता

अन्य खबरें