रांची में घर-घर राशन कार्ड की जांच करेगा जिला प्रशासन, BDO व CO को बनाया गया नोडल अफसर

Nawab Ali, Last updated: Sat, 6th Nov 2021, 7:55 AM IST
  • राजधानी रांची में जिला प्रशासन की टीम ऐसे परिवारों के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी में जुट गई है जो संपन्न होने के बाद राशन कार्ड से संबंधित योजनाओं का लाभ ले रहे हैं. अपात्र लोगों द्वारा राशन कार्ड का लाभ लेने पर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करते हुए रिपोर्ट दर्ज कराई जाएगी.
फाइल फोटो

रांची. झारखंड की राजधानी रांची में अब जिला प्रशासन घर-घर जाकर राशन कार्डधारियों का सत्यापन करने तैयारी में जुट गया है. इस सत्यापन अभियान में जिला प्रशासन ऐसे परिवारों को चिन्हित करेगा जो संपन्न होने के बाद भी राशन कार्ड का फायदा ले रहे हैं. उन परिवारों की वीडियो रिकॉर्डिंग कर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करते हुए प्राथमिकी दर्ज कराई जायेगी. पांच अपात्र लोगों से जिला प्रशासन ने साढ़े तीन लाख रूपये की वसूली की है. ये वो लोग थे जो संपन्न होने के बावजूद भी गरीबों के हक पर डाका डाल रहे थे. 

अगर आप एक संपन्न परिवार से आते हैं और राशन कार्ड के जरिये सरकार द्वारा दिए जा रहे खाद्य पदार्थों का लाभ ले रहे हैं तो सावधान हो जाए. क्योंकि अब ऐसे लोगों के खिलाफ जिला प्रशासन बड़ी कार्रवाई करने जा रहा है. दरअसल राशन कार्ड की योजना ऐसे परिवारों के लिए जिनकी आर्थिक स्थिति कमजोर होती है. जो भी अपात्र लोग राशन कार्ड का लाभ ले रहे हैं, जिला प्रशासन ने उनकी धर-पकड़ के लिए विशेष टीम का गठन किया है.  जिला प्रशासन एक साल से अपने राशन कार्ड सरेंडर करने को कह रहा है जो संपन्न परिवार हैं लेकिन अब तक सिर्फ तीन हजार लोगों ने ही अपने राशन कार्ड सरेंडर किये हैं. 

सोशल मीडिया पर दोस्ती कर लड़की को होटल बुलाया, जबरन मांग भर बनाये शारीरिक संबंध

रांची जिला प्रशासन ने दोबारा सितंबर महीने से 31 अक्टूबर तक का समय दिया था लेकिन इतने समय में भी मात्र पांच लोगों ने ही राशन कार्ड सरेंडर किये हैं . जिला प्रशासन के अनुसार जिले में कुल 25 हजार राशन कार्ड धारक ऐसे हैं जो की अपात्र हैं. अपात्र लोगों को पकड़ने के लिए बीडीओ और सीओ को को नोडल अफसर बनाया है. 

 

अन्य खबरें