रांची: गैस के बढ़े दाम तो उज्ज्वला योजना के लाभार्थियों ने सिलिंडर रिफिल कराना किया बंद

Smart News Team, Last updated: 23/02/2021 07:44 AM IST
  • देशभर में गैस के दाम बढ़ने से रांची में 5 फीसद लोगों ने सिलिंडर रिफिल नहीं करा रहे है. जिसमे में अधिकतर प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत बनते गए गैस सिलिंडर धारक है. वही बढ़े दाम के साथ सब्सिडी भी घटा दी गई है. जिसके तहत भी लोग गैस सिलिंडर नहीं भरा रहे है.
रांची: गैस के बढ़े दाम तो उज्ज्वला योजना के लाभार्थियों ने सिलिंडर रिफिल कराना किया बंद

रांची. रसोई गैस के दाम बढ़ने से सभी राज्यों में इसका असर उज्ज्वला योजना पर देखने को मिल रहा है. इसी तरह झारखंड की राजधानी रांची में गैस के दाम बढ़ने से उज्ज्वला योजना के तहत पाए गैस सिलिंडर को लोगों ने भरवाना बन्द कर दिया है. वही वह दोबारा पारम्परिक रसोई या विद्युत चलित हीटर का प्रयोग करने लगे है. साथ ही तेल कम्पनियों के अधिकारियों का भी मानना है कि 8स योजना से जुड़े हुए लाभार्थी गैस के दाम बढ़ने से दोबारा सिलिंडर रिफिल नहीं कर रहे है.

केंद्र सरकार की तरफ से बढ़ाए गए गैस के दाम के साथ सब्सिडी को घटा दिया गया है. जिसके चलते भी लोग गैस दोबारा रिफिल नहीं कर रहे है. पहले जब 776 रुपए गैस का दाम था तो 158 रुपए सब्सिडी मिलती थी, लेकिन जब अब गैस का दाम 826 रुपए है तो सब्सिडी 40 रुपए मिल रही है. इन कारणों से भी लोगों ने सिलिंडर रिफिल कराना बन्द कर दिया है. वही जानकारी के अनुसार रांची में उज्ज्वला योजना के लाभार्थी करीब डेढ़ लाख से ऊपर है. जिसमे से तीन से पांच प्रतिशत तक लाभार्थी गैस के दाम बढ़ जाने से सिलिंडर दोबारा रिफिल नहीं कर रहे है.

कांग्रेस भवन में आपस में भिड़े कांग्रेसी, तू-तू मैं-मैं से बात धक्का मुक्की तक

आपको बता दे कि केंद्र सरकार की तरफ से उज्ज्वला योजना को समाज के निचले तबके को लाभ दिलाने के लिए शुरू कोय गया था. साथ ही उन ग्रामीणों को पारम्परिक रसोई और पर्यावरण प्रदूषणरहित करने के लिए भी शुरू किया गया था. वही जो ग्रामीण धुंए वाले चूल्हे पर रसोई करते थे उन्हें उससे दूर करने के लिए भी इसे शुरू किया गया था. साथ ही इस योजना के तहत गरीबी रेखा के नीचे वालों के लिए इस योजना के तहत मुफ्त में सिलिंडर और चूल्हा दिया जा रहा था.

राममंदिर निर्माण के नाम पर अधिकारियों से की लाखों की उगाही, STF ने किया गिरफ्तार

अन्य खबरें