झारखंड के इस गांव में नहीं हो रही है लड़कों की शादी, इस वजह से नहीं आती दुल्हन

Ruchi Sharma, Last updated: Mon, 7th Feb 2022, 12:04 PM IST
  • झारखंड के पडुवा हरिया गांव में कोई अपनी लड़की नहीं देना चाहता है. जंगली हाथी के उपद्रव के चलते इस गांव में कोई भी अपनी लड़की की शादी नहीं करना चाहता है. गांव वालों ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से गुहार लगाई है कि वे हाथियों से निजात दिलाने में मदद करें.
झारखंड के इस गांव में नहीं हो रही है लड़कों की शादी

रांची. लातेहार के चंदवा प्रखंड में एक ऐसा गांव हैं, जहां लड़कों की शादी नहीं हो रही है. जी हां, सुनने में भले ही आपको अजीब लग रहा हो, लेकिन यह सच है. इतना ही नहीं इसके पीछे का कारण यकीन मानिए आपको हैरत में डाल देगी. इस गांव का नाम है पडुवा हरिया और यहां कोई अपनी लड़की नहीं देना चाहता है. इसके पीछे वजह है जंगली हाथी. इसके कारण कोई भी अपनी लड़की की शादी इस गांव में नहीं करना चाहता है.

इस गांव में कुछ सालों से हाथियों का ऐसा उपद्रव चल रहा कि कई युवकों की पहले से तय शादी टूट गई है. बेटों के रिश्ते टूटने से परेशान पडुवा गांव वालों ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से गुहार लगाई है कि वे हाथियों से निजात दिलाने में मदद करें.

BJP मंगलवार को जारी करेगी घोषणा पत्र, लता मंगेशकर के निधन से स्थगित हुआ था कार्यक्रम

 

हाथियों के आंतक से टूट गई शादी

चकला निवासी सोमरा उरांव नामक एक ग्रामीण ने बताया कि उनके बेटे की शादी तय थी. लेकिन, हाथियों ने इलाके में इतना आतंक मचाया कि होने वाले समधी ने बेटी का विवाह करने से मना कर दिया. उनका कहना था कि उनकी बेटी यहां कैसे सुरक्षित रहेगी.

घरों में घुसकर उत्पात मचाते हैं हाथी

गांव के लोगों के मुताबिक चंदवा के पहाड़ और जंगल से घिरे गांव लगभग पूरे साल हाथियों के हमले झेलते हैं. हाथी न सिर्फ फसलों को रौंद देते हैं बल्कि घरों में भी घुसकर परेशान करते है. घर पर रखा अनाज व तोड़फोड़ कर देते हैं. यहां जंगली हाथी से लोग काफी परेशान हैं. शादी नहीं होने से निराश राजेंद्र मुंडा नामक युवक ने बताया कि उसकी शादी तय थी. दिन रखने की तैयारी चल रही थी.तभी गांव में हाथियों ने फिर से उत्पात मचाना शुरू कर दिया. जिसकी जानकारी लड़कीवालों को हुई तो उन्होंने तत्काल शादी के लिए मना कर दिया और लड़के की शादी टूट गई. ग्रामीणों ने बताया कि गजराज आधी रात के बाद आ धमकते हैं और घरों को तोड़-फोड़कर फिर जंगल में चले जाते हैं.

अन्य खबरें