पूर्व MLA की पत्नी कोरोना पॉजिटिव, इलाज के लिए सरकार से मांगा अपना बकाया पेंशन

Smart News Team, Last updated: Mon, 17th May 2021, 1:44 PM IST
  • पूर्व विधायक राम लखन सिंह इन दिनों घोर आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं. उनकी पत्नी कोरोना संक्रमण की चपेट में आ चुकी हैं और गंभीर रूप से बीमार हैं. फिलहाल, रांची के एक निजी हॉस्पिटल में आईसीयू में भर्ती हैं. लेकिन उनकी इलाज के लिए भी पूर्व विधायक के पास पैसे नहीं हैं. ऐसे में पूर्व विधायक ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को पत्र लिखा है. इस पत्र के जरिए उन्होंने 2 माह का बकाया पेंशन राशि जल्द देने की गुहार लगाई.
पूर्व विधायक राम लखन सिंह ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से मदद की गुहार लगाई है.

रांची- पूर्व विधायक राम लखन सिंह इन दिनों घोर आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं. उनकी पत्नी कोरोना संक्रमण की चपेट में आ चुकी हैं और गंभीर रूप से बीमार हैं. फिलहाल, रांची के एक निजी हॉस्पिटल में आईसीयू में भर्ती हैं. लेकिन उनकी इलाज के लिए भी पूर्व विधायक के पास पैसे नहीं हैं. ऐसे में पूर्व विधायक ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को पत्र लिखा है. इस पत्र के जरिए उन्होंने 2 माह का बकाया पेंशन राशि जल्द देने की गुहार लगाई. साथ ही धान बिक्री की बकाया राशि भी जल्द देने की गुहार लगाई.

पूर्व विधायक का आरोप है कि उन्होंने विधानसभा के सचिव और उपसचिव को पत्र लिखकर अपनी स्थिति से अवगत कराया. लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई. वहीं धान की बकाया राशि भुगतान के लिए बेला पैक्स और जिला प्रबंधक से भी मांग की थी लेकिन वहां भी महज आश्वासन ही मिला. जिसके बाद उन्होंने मुख्यमंत्री से कहा है कि आईसीयू में भर्ती उनकी पत्नी के इलाज के लिए उन्हें पैसे की सख्त जरूरत है. अगर समय पर उन्हें पेंशन की राशि नहीं मिलती है और उनकी पत्नी कोरोना से जंग हार जाती हैं तो इसका कलंक उनकी सरकार पर लगेगा.

झारखंड लॉकडाउन में सख्ती, रांची में हर आने-जाने वाले से मांगा जा रहा ई-पास

साल 1990 से 1995 तक बरही विधानसभा क्षेत्र से भाकपा के विधायक रहे 90 वर्षीय रामलखन सिंह कहते हैं कि मैंने अपने कार्यकाल में काफी ईमानदारी बरती. वह आगे कहते हैं कि कई बड़े ऑफर को ठुकराया. कई आंदोलचन चलाए. इसका खामियाजा भी झेलना पड़ा. उन्होंने आगे कहा कि पत्नी रांची में कोरोना से जूझ रही हैं. मैं अपने गांव में छतरपुरा में रह रहा हूं. देश और दुनिया की कोरोना बीमारी से हालत खराब है. ऐसे में लोगों की जान बचाने का संकट है. उन्होंने अपने कार्यकाल में क्षेत्र में कई आंदोलन चलाए.

झारखंड के सरकारी स्कूल के बच्चों को भी मिलेगी स्मार्ट क्लास में पढ़ने की सुविधा

पेट्रोल डीजल आज 16 मई का रेट: रांची, धनबाद, जमशेदपुर, बोकारो में बढ़े तेल के रेट

झारखंड लॉकडाउन में मीडिया और सरकारी कर्मचारियों को भी ई-पास जरूरी

झारखंड लॉकडाउन: इन वाहनों को बिना ई-पास के भी चला सकेंगे, जानें सरकार के निर्देश

कोरोना पॉजिटिव बच्चे को RIMS में छोड़कर भागे मां-बाप, फिर ऐसे हुआ अंतिम संस्कार

अन्य खबरें