नक्सलियों की मदद से लोकसभा चुनाव जीतने के आरोप से कांग्रेस नेता अजय कुमार बरी

Smart News Team, Last updated: Wed, 25th Aug 2021, 4:34 PM IST
  • जमशेदपुर के पूर्व सांसद और कांग्रेस नेता डॉ अजय कुमार को आज रांची सिविल कोर्ट ने नक्सलियों की मदद से लोकसभा चुनाव जीतने के आरोप में बरी कर दिया है. एमपी एमएलए की विशेष कोर्ट ने साक्ष्य के अभाव में डॉ अजय कुमार को बरी कर दिया है.
जमशेदपुर के पूर्व सांसद और कांग्रेस नेता डॉ अजय कुमार (फाइल फोटो)

रांची: जमशेदपुर के पूर्व सांसद और कांग्रेस नेता डॉ अजय कुमार को आज रांची सिविल कोर्ट से बड़ी राहत मिली है. कोर्ट ने नक्सलियों की मदद से लोकसभा चुनाव जीतने के आरोप में डॉ अजय कुमार को बरी कर दिया है. एमपी एमएलए की विशेष कोर्ट ने साक्ष्य के अभाव में डॉ अजय कुमार को बरी कर दिया है. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से हुई सुनवाई में डॉ अजय कुमार ने खुद को बेगुनाह बताया. उन्होंने धारा 313 दंड प्रक्रिया के तहत अदालत में कहा कि वे बेगुनाह है.

बता दें कि आज अदालत में सुनवाई के दौरान अभियोजन की ओर से एक भी गवाह प्रस्तुत नहीं किया गया. जिस वजह से अदालत ने एमपी-एमएलए की विशेष न्यायाधीश दिनेश कुमार की अदालत ने साक्ष्य के अभाव में डॉ अजय कुमार को बड़ी राहत देते हुए बरी कर दिया. सुनवाई के बाद डॉ अजय कुमार ने अदालत के फैसले का स्वागत किया है. उन्होंने कहा कि अंततः सत्य की जीत हुई है.

झारखंड में जल्द शुरू होगा 20 नई ट्रेनों का परिचालन, रांची रेल डिवीजन ने मुख्यालय को भेजी सूची

मालूम हो कि साल 2011 में जमशेदपुर लोकसभा उपचुनाव में झारखंड विकास मोर्चा के प्रत्याशी के रूप में डॉ अजय कुमार चुनाव लड़े थे और जीत गए थे. जिसके बाद बीजेपी प्रत्याशी दिनेशानंद गोस्वामी ने अजय कुमार के खिलाफ साकची थाना में प्राथमिकी दर्ज करवाई थी. उन्होंने डॉ अजय कुमार पर नक्सली समरजी से मदद लेने और मतदाताओं को प्रभावित करने का आरोप लगाया था. इन आरोपों के साथ-साथ उन्होंने बातचीत की एक सीडी भी पुलिस को दी थी जिसमें कहा गया था कि डॉ अजय और नक्सली समरजी की बातचीत का रिकॉर्ड है. इसके बाद यह मामला अपराध अनुसंधान विभाग को सौंप दिया गया. जहां 10 सालों तक मामला अदालत में चलता रहा.

बता दें कि साल 2011 में चुनाव जीतने के बाद डॉ अजय कुमार 2014 लोकसभा चुनाव में भी जमशेदपुर संसदीय क्षेत्र से झारखंड विकास मोर्चा के टिकट पर चुनाव लड़े थे. हालांकि इस चुनाव में बीजेपी प्रत्याशी विद्युत वरण महतो से वे हार गए थे. इसके बाद उन्होंने जॉइन कर लिया.

अन्य खबरें