Ranchi: रिम्स में जर्मनी के अत्याधुनिक मशीन से होगा सीटी स्कैन, जानें क्या होंगे इसके फायदे

Priya Gupta, Last updated: Sun, 5th Sep 2021, 12:57 PM IST
  • रांची रिम्स में एडवांस सीटी स्कैन मशीन से सीटी स्कैन शुरुआत होने वाली है. 
रिम्स में जर्मनी के अत्याधुनिक मशीन से होगा सीटी स्कैन

रांची: रांची रिम्स में लंबे इंतजार के बाद अब एडवांस सीटी स्कैन मशीन से सीटी स्कैन शुरुआत होने वाली है. झारखंड के सभी मेडिकल कॉलेजों में से सिर्फ रिम्स में यह हाइटेक 256 स्लाईस की यह मशीन उपलब्‍ध होगी. यह मशीन जर्मनी से भारत आ रही है. फिलहाल यह मुंबई पोर्ट है, कस्टम क्लियरेंस का काम चल रहा है. इस हाइटेक सीटी स्कैन मशीन से सीटी स्कैन के अलावा एंजियोग्राफी भी हो सकेगी. इस मशीन से हार्ट और ब्रेन की एंजियोग्राफी करने की सुविधा होगी.

निदेशक डॉ. कामेश्वर प्रसाद ने बताया कि यह अपने आप में अनोखी मशीन है. जिससे कम समय में अधिक मरीजों की जांच की जा सकेगी. इससे समय की बजत होगी. यह मशीन अगले सप्ताह तक रिम्स जल्द ही पहुंच जाएगी. उसके बाद लोगों को इसकी सुविधा मिलेगी. सस्ती दरों में गरीब व असहाय रोगियों को जांच की सुविधा का रास्‍ता साफ हो जाएगा. यह मशीन 28 अगस्त को जर्मनी से भेजा गया था. हालांकि निदेशक ने कंपनी के दिए गए समय पर आशंका व्यक्त करते हुए कहा कि शायद ट्रांसपोर्टेशन में वक्त लग सकता है.

कानपुर: डेंगू, वायरल फीवर से बचाव के लिए स्कूलों में बच्चे और टीचर्स को पहनने होंगे फुल बाजू के कपड़े

रांची: रांची रिम्स में लंबे इंतजार के बाद अब एडवांस सीटी स्कैन मशीन से सीटी स्कैन शुरुआत होने वाली है. झारखंड के सभी मेडिकल कॉलेजों में से सिर्फ रिम्स में यह हाइटेक 256 स्लाईस की यह मशीनउपलब्‍ध होगी. यह मशीन जर्मनी से भारत आ रही है. फिलहाल यह मुंबई पोर्ट है, कस्टम क्लियरेंस का काम चल रहा है. इस हाइटेक सीटी स्कैन मशीन से सीटी स्कैन के अलावा एंजियोग्राफी भी हो सकेगी. इस मशीन से हार्ट और ब्रेन की एंजियोग्राफी करने की सुविधा होगी.

निदेशक डॉ. कामेश्वर प्रसाद ने बताया कि यह अपने आप में अनोखी मशीन है. जिससे कम समय में अधिक मरीजों की जांच की जा सकेगी. इससे समय की बजत होगी. यह मशीन अगले सप्ताह तक रिम्स जल्द ही पहुंच जाएगी. उसके बाद लोगों को इसकी सुविधा मिलेगी. सस्ती दरों में गरीब व असहाय रोगियों को जांच की सुविधा का रास्‍ता साफ हो जाएगा. यह मशीन 28 अगस्त को जर्मनी से भेजा गया था. हालांकि निदेशक ने कंपनी के दिए गए समय पर आशंका व्यक्त करते हुए कहा कि शायद ट्रांसपोर्टेशन में वक्त लग सकता है.

कानपुर: डेंगू, वायरल फीवर से बचाव के लिए स्कूलों में बच्चे और टीचर्स को पहनने होंगे फुल बाजू के कपड़े

|#+|

निदेशक डॉ. कामेश्वर प्रसाद ने बताया कि नई सीटी स्कैन मशीन को ट्रॉमा सेंटर के ग्राउंड फ्लोर में इंस्टॉल किया जाएगा. इसके लिए साइट भी लगभग तैयार हो चुकी है. मालूम हो कि आइसीएमआर की गाइडलाइन के अनुसार, सबसे ज्यादा जरूरत कोरोना काल में मरीजों को एचआरसीटी की पड़ी, लेकिन रिम्स में मशीन के अभाव में 80 प्रतिशत रोगियों को इससे वंचित रहना पड़ा था.अब यदि तीसरी लहर आएगी तो सभी संक्रमितों का जांच में आसानी होगी. इस नए मशीन से काफी फायदे होंगे एडवांस सीटी स्कैन के ये हैं फायदे कम समय में अधिक से अधिक मरीजों की हो जांच सकेगी.इसके जांच की प्रमाणिकता सबसे अधिक होगी,हृदय व मस्तिष्क की हो सकेगी एंजियोग्राफी.

 

अन्य खबरें