प्रतिबंध के बावजूद पान-गुटखा बिकने पर नाराज HC, जज बोले- रिपोर्ट पेश करे सरकार

Smart News Team, Last updated: 04/12/2020 02:02 PM IST
  • झारखंड हाईकोर्ट सरकार में अधिकारियों की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए कहा गया है कि सरकार ने गुटखा और पान मसालों पर प्रतिबंध लगा कर लोगों को स्वास्थ्य को लेकर अच्छी नीति बनायी थी लेकिन अधिकारियों की इच्छा शक्ति के कारण यह नीति फेल साबित हुई है. चीफ जस्टिस ने दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई करने के लिए कहा है.
पान और गुटखा की खुलेआम बिक्री पर नाराज झारखंड हाईकोर्ट.(फाइल फोटो)

रांची. झारखंड में गुटखा प्रतिबंध होने के बावजूद राज्य में गुटखा और पान मसाले की खुलेआम बिकने पर झारखंड हाईकोर्ट ने एक बार फिर से नाराजगी जतायी है. इस पर सरकार में अधिकारियों की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए कहा गया है कि सरकार ने गुटखा और पान मसालों पर प्रतिबंध लगा कर लोगों को स्वास्थ्य को लेकर अच्छी नीति बनायी थी, लेकिन अधिकारियों की इच्छा शक्ति के कारण यह नीति फेल साबित हुई है. चीफ जस्टिस ने दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई करने के लिए कहा है. 

शुक्रवार को एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन और जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की अदालत ने कहा है कि अभी भी प्रदेश में खुलेआम गुटखा की बिक्री हो रही  है. अपनी नाराजगी जताते हुए कहा है कि प्रतिबंध के बावजूद गुटखा राज्य में कैसे प्रवेश कर रहा है. गुटखा का कहा से इंट्री कर रहा है वहां से ही इस पर ही बैन लगाना चाहिए. साथ ही इंट्री प्वाइंट से प्रवेश करने पर दोषी अधिकारी और व्यक्तियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए.

रांची: आपके घर से कूड़ा उठा या नहीं इसकी जानकारी देगी स्मार्ट मशीन

 इसके अलावा अदालत ने इस मामले में केंद्र सरकार और फूड स्टैंडर्ड सेफ्टी ऑफ इंडिया (एफसीसीआई) को प्रतिवादी बनाने का निर्देश दिया. कोर्ट अब इस मामले की सुनवाई 15 जनवरी को करेगा. राज्य सरकार को इस पर प्रगति रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया गया है.

लालू को निदेशक बंगले में शिफ्ट करने का फैसला किसका, 18 तक जवाब दे सरकार: HC

अन्य खबरें