उचित इलाज नहीं मिलने से आग पीड़िता की मौत मामले में हाईकोर्ट ने दिए जांच के आदेश

Smart News Team, Last updated: Thu, 18th Feb 2021, 1:11 PM IST
एमजीएम अस्पताल जमशेदपुर में उचित इलाज नहीं मिलने से आग पीड़िता की मौत के मामले में हाईकोर्ट ने जांच के आदेश दिए हैं. इसके लिए झालसा को 1 महीने के अंदर रिपोर्ट पेश करनी होगी. मामले में जमशेदपुर के डीसी, एसपी और अस्पताल प्रबंधन को जांच में सहयोग करना होगा.
आग पीड़िता की मौत के मामले में झारखंड हाईकोर्ट ने जांच के आदेश दिए हैं. 

रांची. एमजीएम अस्पताल जमशेदपुर में आग से जली महिला को उचित इलाज नहीं मिलने के कारण मौत के मामले में झारखंड हाईकोर्ट ने जांच के आदेश दिए हैं. गुरुवार को मामले की सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन और जस्टिस सुधीर नारायण प्रसाद की बेंच ने झालसा को पूरे मामले की जांच कर 1 सप्ताह के अंदर रिपोर्ट पेश करने के लिए कहा है. इसके अलावा कोर्ट ने जमशेदपुर के डीसी, एसपी और अस्पताल प्रबंधन को जांच में सहयोग करने के निर्देश दिए हैं.

जानकारी के अनुसार जमशेदपुर की रहने वाली एक महिला को उसके पति ने जला दिया. कुछ लोगों के द्वारा महिला को एमजीएम अस्पताल में भर्ती कराया गया. लोगों का आरोप है कि महिला को उचित इलाज नहीं मिलने के कारण उसकी मौत हो गई.

राहुल पर दिए बयान को लेकर निशाने पर अठावले, कांग्रेस बोली- पद की गरिमा बनाए रखें

इस मामले में चीफ जस्टिस को पत्र लिखने वाले अधिवक्ता अनूप अग्रवाल ने बताया कि महिला 91 फ़ीसदी जल चुकी थी. लेकिन उसका इलाज बर्न वार्ड की जगह जनरल वार्ड में किया जा रहा था. प्रथम दृष्टया कोर्ट ने इसे अस्पताल की लापरवाही मानते हुए पूरे मामले की जांच के लिए झालसा सचिव को आदेश दिए हैं. मामले की अगली सुनवाई 25 फरवरी को होगी.

अन्य खबरें