झारखंड में साइबर क्राइम के खिलाफ जागरूकता फैलाना के लिए पुलिस ने लांच की किताब

Smart News Team, Last updated: Sat, 28th Nov 2020, 7:45 AM IST
  • पुस्तिका के माध्यम से पुलिस झारखंड के लोगों को जागरूक करने जा रही है. इसमें साइबर क्राइम से बचने व सतर्क रहने की जानकारी दी गई है. इंटर्नेट की उपलब्धता के कारण पुलिस ने पाया है कि साइबर स्पेस का दायरा बढ़ा है इसलिए इस क्षेत्र में क्राइम होने की संभावना में भी तेजी देखी गई हैं
साइबर अपराध को रोकने के लिए झारखंड पुलिस के 36 पेज की साइबर अपराध पुस्तिका जारी की है.(प्रतीकात्मक फोटो)

रांची. झारखंड में बढ़ रहे साइबर अपराध को रोकने के लिए झारखंड पुलिस के 36 पेज की साइबर अपराध पुस्तिका जारी की है. इस पुस्तिका के माध्यम से पुलिस झारखंड के लोगों को जागरूक करने जा रही है.  इसमें साइबर क्राइम से बचने व सतर्क रहने की जानकारी दी गई है. इंटर्नेट की उपलब्धता के कारण पुलिस ने पाया है कि साइबर स्पेस का दायरा बढ़ा है इसलिए इस क्षेत्र में क्राइम होने की संभावना में भी तेजी देखी गई हैं. 

शुक्रवार को झारखंड पुलिस ने इसे मुख्यालय में जारी किया है. इस पुस्तिका में साइबर अपराधियों द्वारा अपनाए जा रहे साइबर क्राइम के अलग-अलग तरीकों और उनसे बचाव के लिए बारे में बताया गया है. साथ ही इंटर्नेट यूजर को सतर्क किया गया है किस गलती से साइबर क्राइम से बचा जा सकता है. इस पु्स्तक को डीजी मुख्यालय में अजय कुमार सिंह, एडीजी आरके मल्लिक और मुरारी लाल मीणा ने लांच किया है. इस पुस्तिका को झारखंड पुलिस की वेबसाइट की डाल दिया गया है. 

कोरोना गाइडलाइनंस का पालन ना करने पर कई दुकानें सील, नोटिस देकर मांगा जवाब

दैनिक जीवन में इंटर्नेट का इस्तेमाल बढ़ा है. लोगों के साथ जुड़नें, नौकरी, व्यवसाय चलाने जैसे महत्त्वपूर्ण काम अब इंटर्नेट पर ही होने लगे हैं. झारखंड में इन दिनों साइबर क्राइम की काफी घटनाएं बढ़ी हैं. इस वजह से पुलिस की कोशिश है कि लोग साइबर क्राइम के प्रति जागरूक बनें और बचाव करें.

रांची. झारखंड में बढ़ रहे साइबर अपराध को रोकने के लिए झारखंड पुलिस के 36 पेज की साइबर अपराध पुस्तिका जारी की है. इस पुस्तिका के माध्यम से पुलिस झारखंड के लोगों को जागरूक करने जा रही है.  इसमें साइबर क्राइम से बचने व सतर्क रहने की जानकारी दी गई है. इंटर्नेट की उपलब्धता के कारण पुलिस ने पाया है कि साइबर स्पेस का दायरा बढ़ा है इसलिए इस क्षेत्र में क्राइम होने की संभावना में भी तेजी देखी गई हैं. 

शुक्रवार को झारखंड पुलिस ने इसे मुख्यालय में जारी किया है. इस पुस्तिका में साइबर अपराधियों द्वारा अपनाए जा रहे साइबर क्राइम के अलग-अलग तरीकों और उनसे बचाव के लिए बारे में बताया गया है. साथ ही इंटर्नेट यूजर को सतर्क किया गया है किस गलती से साइबर क्राइम से बचा जा सकता है. इस पु्स्तक को डीजी मुख्यालय में अजय कुमार सिंह, एडीजी आरके मल्लिक और मुरारी लाल मीणा ने लांच किया है. इस पुस्तिका को झारखंड पुलिस की वेबसाइट की डाल दिया गया है. 

कोरोना गाइडलाइनंस का पालन ना करने पर कई दुकानें सील, नोटिस देकर मांगा जवाब

दैनिक जीवन में इंटर्नेट का इस्तेमाल बढ़ा है. लोगों के साथ जुड़नें, नौकरी, व्यवसाय चलाने जैसे महत्त्वपूर्ण काम अब इंटर्नेट पर ही होने लगे हैं. झारखंड में इन दिनों साइबर क्राइम की काफी घटनाएं बढ़ी हैं. इस वजह से पुलिस की कोशिश है कि लोग साइबर क्राइम के प्रति जागरूक बनें और बचाव करें.|#+|

 

अन्य खबरें