झारखंड: तीन महीने के प्रयास के बाद फोटोग्राफर के कैमरे में कैद हुआ भूरा भेड़िया

Sumit Rajak, Last updated: Mon, 14th Feb 2022, 10:00 AM IST
  • झारखंड के लातेहार जिले के वन क्षेत्र महुआडांड़ के जंगल में भेड़िया दिखने लगे हैं. वन विभाग के द्वारा लगाये कैमरे में इसकी तस्वीर कैद हुई है. महुआडांड़ अभयारण्य भेड़ियों का प्रसव क्षेत्र भी है. इन दिनों भेड़ियों को जंगलों में भ्रमण करते अक्सर देखा जा सकता है. बता दें कि देश का एकमात्र भेड़िया अभयारण्य लातेहार के महुआडांड़ में है
फाइल फोटो 

रांची. झारखंड के लातेहार जिले के वन क्षेत्र महुआडांड़ के जंगल में भेड़िया दिखने लगे हैं. वन विभाग के द्वारा लगाये कैमरे में इसकी तस्वीर कैद हुई है. महुआडांड़ अभयारण्य भेड़ियों का प्रसव क्षेत्र भी है. वन विभाग के द्वारा लगाये गये कैमरे में भेड़िया के प्रसव की पुष्टि हुई है. इन दिनों भेड़ियों को जंगलों में भ्रमण करते अक्सर देखा जा सकता है. आपको बता दें कि देश का एकमात्र भेड़िया अभयारण्य लातेहार के महुआडांड़ में है. भेड़िया अभयारण्य पलामू ब्याघ्र परियोजना के नियंत्रणाधीन है. इस अभयारण्य को 25 संरक्षित वन में वर्गीकृत किया किया गया है जो छत्तीसगढ़ सीमा क्षेत्र से सटा है

पलामू बाघ अभयारण दक्षिण रेंज के उप निर्देशक मुकेश कुमार ने बताया कि महुआडांड़ में भेड़ियों की रोमांचक गतिविधिया देखने को मिल रही है. यह काफी उत्साहजनक है. यह क्षेत्र हर स्थिति में भेड़‍ियों के लिए मुफीद साबित होता है. अमूमन शाम से सुबह होने के पहले तक ही भेड़‍िए अपने शिकार की तलाश में निकलते हैं. ये पांच से छह की संख्या में ग्रुप बना कर चलते हैं. खरगोश व बकरी का बच्चा इनका प्रिय भोजन है.

JTET में 60 फीसदी अंक लाने पर होंगे पास, आजीवन मान्य रहेगा सर्टिफिकेट

भेड़िया अभयारण्य वाले क्षेत्र में कैमरा लगाये गये हैं. उन्होंने बताया कि जंगलों में कैमरे लगये गये हैं. जिससे समय-समय पर इनकी गतिविधियों की जानकारी हम लेते रहते हैं. उप निदेशक ने बताया कि वाइल्डलाइफ फोटोग्राफऱ  के कैमरे में वन्यजीवों  की तस्वीर लेने के क्रम में लड़की जैसे धब्बेदार उल्लू की फोटो भी महुआडांड़ में कैद हूई है. 

 

अन्य खबरें