हेमंत सरकार ने खत्म किया APL, BPL की बाध्यता, अब सभी जरूरतमंदों को मिलेगी पेंशन

Somya Sri, Last updated: Sun, 28th Nov 2021, 7:29 AM IST
  • झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने एपीएल और बीपीएल की बाध्यता को पूरी तरह समाप्त कर दिया है. जिससे प्रदेश में राज्य सरकार की योजनाओं के तहत मिलने वाली पेंशन में कोई बाध्यता नहीं होगी. जिससे हर जरूरतमंद को पेंशन मिल सकेगा. राज्य सरकार के इस फैसले से दिव्यांग, विधवा, वृद्ध, परित्यक्ता को पेंशन मिलेगी. वहीं सीएम सोरेन ने एक कार्यक्रम के दौरान लोगों से कहा कि 'आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम' से राज्य के लोगों का जीवन स्तर उठाने का काम किया जा रहा है.
मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (फाइल फोटो)

रांची: झारखंड में लाभार्थियों को पेंशन देने के लिए अब कोई तय सीमा तय नहीं होगी. अब प्रदेश में सभी जरूरतमंदो को पेंशन मिलेगी. झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने एपीएल और बीपीएल की बाध्यता को पूरी तरह समाप्त कर दिया है. जिससे प्रदेश में राज्य सरकार की योजनाओं के तहत मिलने वाली पेंशन में कोई बाध्यता नहीं होगी. जिससे हर जरूरतमंद को पेंशन मिल सकेगा. राज्य सरकार के इस फैसले से दिव्यांग, विधवा, वृद्ध, परित्यक्ता को पेंशन मिलेगी. 

मालूम हो कि सीएम हेमंत सोरेन ने ये बातें शनिवार को रामगढ़ जिले के गोला प्रखंड स्थिति अपने पैतृक गांव नमेरा के पड़ोस में स्थित लुकईयाटांड़ में अपने दादा शहीद सोबरन सोरेन के 64वें शहादत दिवस पर आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कही. इस दौरान सीएम ने करोड़ों की परिसंपत्तियों का वितरण किया. इस दौरान उन्होंने कहा कि शहीद सोबरन सोरेन की शहादत बेकार नहीं गई. उन्होंने कहा कि उनकी ही आवाज उठाने से झारखंड अलग राज्य बना.

रेप के फर्जी केस में दो साल से जेल में बंद आरोपी पीड़िता के बयान से छूटा

आपकी सरकार आपके द्वार योजना से जीवनस्तर उठा

बता दें कि सीएम हेमंत सोरेन ने इस दौरान कहा कि सरकार के 2 साल पूरे होने पर आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम चलाकर राज्य के लोगों का जीवन स्तर उठाने का काम किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि कई क्षेत्रों में आज भी योजना तो छोड़िए, सरकार की आवाज तक नहीं पहुंचती है. जनकल्याणकारी योजनाओं को समाज के अंतिम लोगों तक पहुंचाने के लिए प्रत्येक पंचायत में सरकार आपके द्वार कार्यक्रम चल रहा है. उन्होंने कहा कि सभी लोग शिविर में जाएं और अधिकारियों से मिलकर योजनाओं का लाभ उठाएं. मालूम हो कि इस दौरान मुख्यमंत्री और उनके पिता झामुमो सुप्रीमो सह राज्यसभा सांसद शिबू सोरेन ने भी शहीद शिबू सोरेन को श्रद्धासुमन अर्पित किया.

कोरोना के दौर में नहीं छोड़ा किसी को भूखा

कार्यक्रम के दौरान सीएम हेमंत सोरेन ने कहा कि कोरोनावायरस संक्रमण के दौर में भी राज्यवासियों को भूखे नहीं जोड़ा गया. उन्होंने कहा कि संक्रमण काल में राज्य भर में उतार-चढ़ाव के बीच किसी को हतोत्साहित नहीं होने दिया गया. बेरोजगारी, पलायन और युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार ने 50% अनुदान पर वाहन, गाजा बाजा, ब्यूटी पार्लर, टेंट हाउस व अन्य योजनाएं चला रही है.

झारखंड: मेडिकल कॉलेज के सहायक प्राध्यापक पद के लिए योग्यता में बदलाव को कैबिनेट की मुहर,

सीएम ने लोगो को खेती के लिए किया प्रेरित

बता दें कि इस दौरान सीएम हेमंत सोरेन ने लोगों को खेती बारी के लिए प्रेरित किया. उन्होंने कहा कि सरकार धान की खरीद करेगी. आप खेती करिए. वहीं उन्होंने महिलाओं को भी सशक्त बनने को कहा. उन्होंने कहा कि महिलाएं स्वयं सहायता समूह के तहत अंडे का कारोबार शुरू कर सकती हैं. यही अंडा स्कूलों में बच्चों को खिलाया जाता है.

अन्य खबरें