झारखंड में कोरोना से हुई मौतों के आंकड़ोें का ऑडिट कराएगी हेमंत सोरेन सरकार

Smart News Team, Last updated: Wed, 26th May 2021, 10:18 PM IST
  • झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा है कि वह राज्य में कोरोना से हुई मौत के आकड़ों का ऑडिट कराएंगे. ऐसा करने से पता चल सकेगा कि मौत से जुड़े से सरकारी आंकड़ें जमीन हकीकत से अलग तो नहीं हैं.
झारखंड के CM हेमंत सोरेन राज्य में कोरोना से हुए मोत के आकड़ों का ऑडिट कराने का फैसला लिया है

झाऱखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने राज्य में कोरोना से हुई मौतों को लेकर बड़ा ऐलान किया है. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि वह कोरोना से हुई मौत के आकड़ों का निष्पक्ष ऑडिट करा कर यह जानना चाहते हैं कि क्या सरकारी आंकड़ें जमीनी हकीकत से जुदा हैं. ऐसा करने से सरकार को महामारी से प्रभावित हर परिवार की पहचान कर उन्हें जरूरी सामाजिक सुरक्षा कार्यक्रम से जोड़कर जीवन सुरक्षित करने में मदद मिलेगी. साथ ही ये निष्पक्ष आंकड़ें सरकार को अपनी स्वास्थ्य व्यवस्था को मजबूत करने, पारदर्शी बनाने और समावेशी नीतियां बनाने में मदद करेंगी.

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ट्वीट कर आगे कहा कि हम अपने मृतकों को लावारिस की तरह न बहाएंगे और न ही दफनाएंगे. बल्कि उन्हें उनके पूरे रीति रिवाज एंव धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सम्मानपूर्वक विदायी देंगे. हम राज्य के हर दुखी परिवार को हरसंभव सहायता देते आए हैं और आगे भी देते रहेंगे.

यास तूफान का असर : रांची में मंगलवार शाम से लगातार बारिश जारी

स्वास्थ्य विभाग ने झारखंड के 5 प्रमुख शहरों रांची, धनबाद, बोकारो, पूर्वी सिंहभूम और हजारीबाग में 1 अप्रैल से कोरोना के कारण हुई मौत का ऑडिट करने का निर्णय लिया है. इसके लिए विभाग की तरफ से दो अलग-अलग उच्च स्तरीय टीम बनाई गई है. स्वास्थ्य विभाग ने दोनों टीमों को 31 मई तक अपनी रिपोर्ट देने को कहा है. इन टीमों को निर्धारित प्रारूप में अपनी रिपोर्ट मौत के कारणों का संक्षिप्त विश्लेषण करते हुए देनी है.

झारखंड में कोरोना लॉकडाउन 3 जून तक बढ़ा, जारी रहेंगी सभी पाबंदियां

इससे पहले मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कैबिनेट मंत्रियों के साथ कोरोना महामारी पर मंथन के दौरान महिला, बाल विकास एंव सामाजिक सुरक्षा मंत्री जोबा मांझी से उनके क्षेत्र चाईबासा में मौत के आंकड़ों का डाटा बैंक बनवाने को कहा. मुख्यमंत्री ने मंत्रियों और विधायकों से भी अपने क्षेत्र में ऐसा करने को कहा है. ताकि मौत के वास्तविक आंकड़ें सरकार तक पहुंच सके.

 

अन्य खबरें