झारखंड में कोरोना मरीज पांच हजार के पार, रांची में बेड की मारामारी

Smart News Team, Last updated: 06/04/2021 12:04 AM IST
झारखंड में कोरोना के एक्टिव मरीजों की संख्या रविवार को 5244 हो गई. इसके साथ ही रांची में अब बेडों की मारामारी भी शुरू हो गई है. जिसे देख स्वास्थ्य सचिव ने रिम्स में बेडों की संख्या बढ़ाने का आदेश दिया है. साथ ही बेडों की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के लिए रिम्स के अपर निदेशक डॉ. बाघमारे को नोडल पदाधिकारी भी बनाया है.
झारखंड में कोरोना मरीज पांच हजार के पार, रांची में बेड की मारामारी

रांची. झारखंड में कोरोना का प्रकोप हर दिन बढ़ता ही जा रहा है. राज्य में स्थिति ऐसी हो गई है कि शनिवार को संक्रमण की जो दर 3.98 थी, वह रविवार को बढ़कर 6.72 हो गयी. राजधानी समेत राज्य के सभी जिलों में मरीजों की संख्या प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है. रविवार को राज्य में एक्टिव मरीजों की संख्या बढ़कर 5244 हो गई. इसके साथ ही राजधानी में स्थिति इतनी खराब हो गई कि अब बेडो की मारामारी भी शुरू हो गयी है. हालांकि राज्य के अन्य जिलों में बेडो की किल्लत फिलहाल नहीं है.

केवल रांची में ही राज्य के आधे से अधिक 57.39 फीसदी एक्टिव मरीज है. मरीजों की बढ़ती संख्या के कारण रिम्स के करीब 95 फीसदी बेड भर चुके है. वहीं 55 फीसदी बेड सदर अस्पताल के भी फुल हो चुके है. राजधानी में ऐसा आलम देखकर स्वास्थ्य सचिव केके सोन ने रिम्स में बेडो की संख्या में इजाफा करने का आदेश दिया है. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि यदि निजी अस्पतालों में मरीजों से निर्धारित दर से ज्यादा धनराशि वसूल की जाती है, तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

झारखंड: एक सप्ताह में चार गुना हुए कोरोना पॉजिटिव केस, CM सोरेन ने लॉकडाउन को लेकर कही ये बात

स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि रिम्स में बुधवार तक बेडों की संख्या को बढ़ाकर 252 किया जाएगा. जिसमें 100 सामान्य बेड, 107 ऑक्सीजन बेड एवं 45 वेंटिलेटर बेड शामिल है. वहीं 15 अप्रैल तक इन बेडों की संख्या को बढ़ाकर 339 कर दिया जाएगा. जिनमें 148 सामान्य बेड, 131 ऑक्सीजन बेड एवं 60 वेंटिलेटर बेड शामिल है. इसके अलावा सचिव ने वेंटिलेटर बेडो की संख्या बढ़ाने के लिए जरूरी उपकरणों की उपलब्धता सुनिश्चित कराने का भी निर्देश दिया है.

सीसीएल अस्पताल में खत्म हुई कोरोना वैक्सीन, हुआ हंगामा, सेंटर पर लगाना पड़ा ताला

सभी जिलों में बेडों की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के लिए स्वास्थ्य सचिव ने नोडल पदाधिकारी भी बनाया है. रिम्स के अपर निदेशक डॉ. बाघमारे प्रसाद कृष्ण को यह जिम्मेदारी दी गई है. जिलों में बेड की उपलब्धता के लिए डॉ. बाघमारे सभी जिलों के उपायुक्तों एवं रिम्स के क्रिटिकल केयर के एचओडी डॉ. पीके भट्टाचार्य से समन्वय स्थापित करके इस संबंध में अग्रिम कार्ययोजना बनाएंगे.

सांस्कृतिक कार्य निदेशालय के सहायक निदेशक विजय पासवान की कोरोना से मौत

अन्य खबरें