JCERT ने बुक्स में अपलोड किया QR कोड, बच्चे स्कैन करके देख सकेंगे संशोधित सिलेबस

Smart News Team, Last updated: 14/12/2020 10:33 PM IST
झारखंड शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद ने पहली से आठवीं कक्षा के बच्चों की किताबों में मुख्य पृष्ठ पर क्यूआर कोड अपलोड कर दिया है. इससे बच्चे उस कोड को स्कैन कर संशोधित सिलेबस और साप्ताहिक कैलेंडर देख सकेंगे.
प्रदेश के प्रारंभिक स्कूलों के बच्चों की पाठ्य पुस्तकों में क्यूआर कोड अपलोड कर दिया गया है जिससे बच्चे संशोधित सिलेबस देख सकेंगे.

रांची. झारखंड शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद ने सभी किताबों की क्यूआर कोड में संशोधित सिलेबस अपलोड कर दिया है. इससे प्रदेश के प्रारंभिक स्कूलों के बच्चे बुक्स में दिए गए क्यूआर कोड को स्कैन कर संशोधित सिलेबस के साथ-साथ साप्ताहिक कैलेंडर भी देख सकेंगे.

इसके साथ ही पहली से आठवीं तक के बच्चों के लिए आठ सप्ताह के जारी किए गए कैलेंडर को भी उसमें रखा गया है. जिन बच्चों को संशोधित सिलेबस या आठ सप्ताह का शैक्षणिक कैलेंडर नहीं मिल सका है वह इस क्यूआर कोड स्कैन कर आसानी से उसे प्राप्त कर सकते हैं.

रांची: 17 थाना प्रभारियों का ट्रांसफर, श्रीति कुमारी महिला थाना प्रभारी नियुक्त

इसके अलावा स्कूलों के शिक्षक भी छात्र छात्राओं को अपने स्तर से भी फरवरी तक आठ सप्ताह का कैलेंडर फोटो कॉपी कर उपलब्ध करा रहे हैं. स्कूल के क्षेत्र में अलग-अलग मोहल्ला, टोलो में जाकर बच्चों या उनके गार्जियन को उसे उपलब्ध करा रहे हैं जिससे बच्चे उस आधार पर पढ़ सकें. इसमें स्कूल डेवलपमेंट फंड से फोटोकॉपी की राशि खर्च की जा सकेगी. छात्र-छात्राओं का कोर्स पूरा करने के साथ-साथ इसका रिविजन भी हो रहा है. कैलेंडर के आधार पर पहले सप्ताह में अब तक दिए जा चुके कंटेंट का रिवीजन हुआ. अब दूसरे सप्ताह में भी बच्चे रिवीजन कर रहे हैं.

पाठ्यपुस्तक में क्यूआर कोड के अलावा शिक्षक और स्कूली बच्चे दीक्षा पोर्टल पर भी इसे लॉग इन कर देख सकेंगे. दीक्षा पोर्टल में जाने पर संक्षिप्त पाठ्यक्रम, हर क्लास के लिए अलग-अलग साप्ताहिक कैलेंडर उपलब्ध है और उसके लिंक दिए हुए हैं. लिंक में क्लिक करते हुए संशोधित किए गए पाठ्यक्रम और क्लास वार साप्ताहिक कैलेंडर भी देख सकेगा. फरवरी तक पाठ्यक्रम रिवीजन और कंप्लीट करने के बाद मार्च में छात्र छात्राओं का असेसमेंट हो सकेगा. 2019-20 के शैक्षणिक सत्र में पहली से सातवीं तक के छात्र छात्राओं का असेसमेंट नहीं हो सका था. कोरोना संक्रमण की शुरुआत के बाद मूल्यांकन को स्थगित कर दिया गया था. कोरोना के मामले कम नहीं हुए तो इस बार मूल्यांकन किस तरह से होगा इस पर शिक्षा विभाग विचार कर रहा है.

CM ने ली पेयजल और स्वच्छता विभाग की बैठक, कहा- 54 लाख घरों तक कराएं जल उपलब्ध

आपको बता दें कि झारखंड एकेडमिक काउंसिल आठवीं से 12वीं तक की परीक्षा लेगा. इसमें मैट्रिक और इंटर मीडिएट की बोर्ड परीक्षा होगी. इसके अलावा आठवीं, नौवीं और 11वीं की ओएमआर शीट पर परीक्षा ली जा सकेगी. मैट्रिक और इंटरमीडिएट की मार्च-अप्रैल में परीक्षा लेने की संभावना है जबकि आठवीं, नौवीं और 11वीं की परीक्षा फरवरी में हो सकेगी.

अन्य खबरें