टेम्पो एजेंट टिप्पणी के विरोध में ऑटो चलाकर विधानसभा पहुंचे बन्ना गुप्ता, बोले- चाय वाला PM...

Nawab Ali, Last updated: Thu, 9th Sep 2021, 11:01 PM IST
  • झारखंड स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता विधानसभा खुद ऑटो चलाकर पहुंचे हैं. स्वास्थ्य मंत्री का खुद ऑटो चलाकर विधानसभा जाने का कारण पूर्व सरकार के मंत्री सीपी सिंह की टिप्पणी है. सीपी सिंह ने विधानसभा में स्वास्थ्य मंत्री को कहा था कि ये टेम्पों एजेंट हैं पहले टेम्पू चलाते थे इस लिए इन्हें बात समझ नहीं आती है.
झारखंड स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ऑटो चलाकर विधानसभा पहुंचे.

रांची. झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता खुद ऑटो चलाकर विधासभा पहुंचे. स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता पूर्व सरकार में मंत्री सीपी सिंह की टिप्पणी के विरोध में विधानसभा खुद ऑटो चलाकर पहुंचे हैं. पूर्व सरकार में मंत्री और मौजूदा विधायक सीपी सिंह ने सदन में स्वास्थ्य मंत्री पर एक टिप्पणी की थी उन्होंने कहा था कि स्वास्थ्य मंत्री पहले टेम्पू चलाते थे, टेम्पो एजेंट हैं, इन्हें बाते समझ नहीं आती है. इस टिप्पणी के विरोध में ही स्वास्थ्य मंत्री खुद टेम्पो चलाकर सदन पहुंचे हैं. 

पूर्व मंत्री की टिप्पणी का जवाब देते हुए स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा था कि कोई भी व्यक्ति काम से छोटा या बड़ा नहीं होता है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी खुद चाय बेचते थे. क्या उन्हें यह अधिकार नहीं की वो प्रधानमंत्री बने. उन्होंने कहा है कि अगर कोई भी व्यक्ति कुछ काम करता है साथ में अगर राजनीति भी करता है तो इसमें क्या गलत है. इसी टिप्पणी का विरोध करते हुए बन्ना गुप्ता विधानसभा ऑटो चलाकर पहुंचे हैं. बन्ना गुप्ता ने सवाल पूछते हुआ कहा है कि क्या गरीब को लोकसभा या विधानसभा में बैठने का हक़ नहीं है. जब चाय बेचने वाला प्रधानमंत्री बन सकता है तो टेम्पो चलाने वाला क्या स्वास्थ्य मंत्री नहीं बन सकता है.

नमाज रूम को लेकर झारखंड विधानसभा में हंगामा, स्पीकर ने गठित की सर्वदलीय कमिटी, ये होंगे मेंबर

पूर्व मंत्री की टिप्पणी पर बन्ना गुप्ता ने काह है कि इस तरह की घटिया मानसिकता का उदाहरण है. इस टिप्पणी पर सीपी सिंह ने सफाई देते हुए कहा है कि जब रांची के टेम्पो चालक के साथ पुलिस समस्या करती है तो सीपी सिंह उनके साथ खड़ा होता है. मेरी सोच थी की आप आज स्वास्थ्य मंत्री हो तो टेम्पो एजेंट की तरह व्यवहार ना करें. झारखण्ड का स्वास्थ्य मंत्री होने के नाते आपका व्यवहार टेम्पो चालक की तरह नहीं स्वास्थ्य मंत्री की तरह होना चाहिए.

अन्य खबरें